Sunday, November 18, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

प्रवासी पक्षियों का आसन वेटलैंड से हो रहा मोहभंग, मानवीय दखल के चलते घट रही तादाद 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रवासी पक्षियों का आसन वेटलैंड से हो रहा मोहभंग, मानवीय दखल के चलते घट रही तादाद 

देहरादून। उत्तराखंड के मशहूर वेटलैंड, आसन में प्रवासी पक्षियों की प्रजातियों में लगातार कमी आती जा रही है। वैज्ञानिकों की शोध में इस बात का पता चला है कि झील के किनारे पर बढ़ते मानवीय दखल की वजह से ऐसा हो रहा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि आसन बैराज के दोनों ओर सड़कों का निर्माण और लगातार गाड़ियों की आवाजाही की वजह से पक्षियों को प्राकृतिक माहौल नहीं मिल पा रहा है जिसके चलते प्रवासी पक्षियों कर तादाद में लगातार कमी आती जा रही है। 

गौरतलब है कि पहले आसन बैराज में करीब 300 से ज्यादा प्रवासी पक्षियों की प्रजातियां आती थी लेकिन बढ़ते मानवीय दखल के बाद इनकी संख्या में भारी गिरावट आई है और यह अब 100 के करीब सिमट कर रह गई है। पक्षियों के ऊपर शोधा करने वाली संस्था के अनुसार जंगलों की कटाई और बढ़ते निर्माण के चलते प्रवासी पक्षियों की तादाद में भारी कमी आई है। 

ये भी पढ़ें - पीएम की महत्वाकांक्षी योजना में ‘बाबुओं’ की सुस्ती पर बरसे मंत्री, अपर सचिव को पत्र लिखकर जता...


यहां बता दें कि भारतीय प्राणी सर्वेक्षण विभाग (जेडएसआई) ने बताया कि राज्य में आने वाले पर्यटकों के बैराज के काफी करीब आ जाने और से पक्षियों को प्राकृतिक माहौल नहीं मिल पा रहा है। जेडएसआई पक्षी विशेषज्ञ डा. अनिल कुमार ने बाताया कि पक्षियों को जितना ज्यादा प्राकृतिक माहौल मिलेगा उतना ही उनकी तादाद में बढ़ोतरी होगी। आसन बैराज में पक्षियों की संख्या बढ़ाने के लिए सबसे पहले वहां पर मानव हस्तक्षेप कम से कम करना होगा। उन्होंने बताया कि बैराज क्षेत्र में पर्यटकों की सीधी एंट्री पर रोक लगानी चाहिए। बैराज से कुछ दूरी पर टॉवर लगाये जाने चाहिए, ताकि पर्यटक दूर से ही पक्षियों को देख सकें। मुख्य क्षेत्र से दूर टेलिस्कोप लगाये जाने चाहिए। बैराज के आस पास निर्माण कार्य पर रोक लागाने से भी पक्षीयों की संख्या बढ़ेगी। 

Todays Beets: