Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

यूओयू में 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वालों की काॅपियों की होगी दोबारा जांच, कुलपति स्वयं कराएंगे ऐसा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूओयू में 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वालों की काॅपियों की होगी दोबारा जांच, कुलपति स्वयं कराएंगे ऐसा 

देहरादून। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय (यूओयू) में पढ़ने वाले छात्रों को अब मनमाने ढंग से नंबर नहीं दिए जाएंगे। विश्वविद्यालय ने 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वाले छात्रों की उत्तरपुस्तिकाओं की दोबारा जांच कराएगा। यह जांच स्वयं कुलपति कराएंगे। विश्वविद्यालय की छवि को सुधारने के मकसद से यह कदम उठाया गया है।

काॅपियों की होगी दोबारा जांच

गौरतलब है कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को अब तक मनमाने ढंग से नंबर दिए जाते थे। ऐसे में छात्रों का सही मूल्यांकन नहीं हो पाता था। अब विश्वविद्यालय की परीक्षाओं में 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वाले छात्रों की काॅपियों की जांच दोबारा से कराई जाएगी। सही स्थिति का पता लगाने के लिए कुलपति स्वयं ऐसे विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं का दोबारा मूल्यांकन कराएंगे। 

ये भी पढ़ें - बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्र हो जाएं अलर्ट, 5 मार्च से शुरू होंगी सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और ...

विशेषज्ञ करेंगे मूल्यांकन


यहां बता दें कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा छात्रों को अक्सर ज्यादा नंबर देने की शिकायतें अक्सर आती रहती हैं।  कुछ ऐसे विद्यार्थियों को 80 फीसद अंक मिल जाते हैं, जिनका न असाइनमेंट वर्क ठीक होता है और न ही उत्तर पुस्तिका। ऐसे में विश्वविद्यालय की छवि को सुधारने के मकसद से यह कदम उठाया गया है।  इस मनमानी को रोकने के लिए कुलपति प्रो. नागेश्वर राव ऐसे विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिका मंगवाएंगे। संबंधित विषय के विशेषज्ञ को बुलाकर अपने सामने मूल्यांकन कराएंगे। मूल्यांकन में लापरवाही मिलने पर संबंधित शिक्षक के खिलाफ भी कार्रवाई की संस्तुति की जाएगी।  

असाइनमेंट के अंक 40 से हो गए 20 

मुक्त विश्वविद्यालय में अभी तक एक विषय का असाइनमेंट वर्क 40 अंकों का था। काम किसी भी तरह का हो लेकिन असाइनमेंट वर्क में अधिकतम अंक दिए जा रहे थे। इस स्थिति को रोकने के लिए विश्वविद्यालय ने अब असाइनमेंट वर्क 20 अंकों का कर दिया है। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रों नागेश्वर राव ने बताया कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय की ओर से दी जाने वाले दूरस्थ शिक्षा में पूरी तरह गुणवत्ता बनी रहे इस वजह से  पहल की है। मनमानी को रोकने के लिए भी पुनर्मूल्यांकन कराया जाएगा। 

Todays Beets: