Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

यूओयू में 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वालों की काॅपियों की होगी दोबारा जांच, कुलपति स्वयं कराएंगे ऐसा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूओयू में 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वालों की काॅपियों की होगी दोबारा जांच, कुलपति स्वयं कराएंगे ऐसा 

देहरादून। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय (यूओयू) में पढ़ने वाले छात्रों को अब मनमाने ढंग से नंबर नहीं दिए जाएंगे। विश्वविद्यालय ने 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वाले छात्रों की उत्तरपुस्तिकाओं की दोबारा जांच कराएगा। यह जांच स्वयं कुलपति कराएंगे। विश्वविद्यालय की छवि को सुधारने के मकसद से यह कदम उठाया गया है।

काॅपियों की होगी दोबारा जांच

गौरतलब है कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को अब तक मनमाने ढंग से नंबर दिए जाते थे। ऐसे में छात्रों का सही मूल्यांकन नहीं हो पाता था। अब विश्वविद्यालय की परीक्षाओं में 80 से ज्यादा और 30 से कम नंबर लाने वाले छात्रों की काॅपियों की जांच दोबारा से कराई जाएगी। सही स्थिति का पता लगाने के लिए कुलपति स्वयं ऐसे विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं का दोबारा मूल्यांकन कराएंगे। 

ये भी पढ़ें - बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्र हो जाएं अलर्ट, 5 मार्च से शुरू होंगी सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और ...

विशेषज्ञ करेंगे मूल्यांकन


यहां बता दें कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा छात्रों को अक्सर ज्यादा नंबर देने की शिकायतें अक्सर आती रहती हैं।  कुछ ऐसे विद्यार्थियों को 80 फीसद अंक मिल जाते हैं, जिनका न असाइनमेंट वर्क ठीक होता है और न ही उत्तर पुस्तिका। ऐसे में विश्वविद्यालय की छवि को सुधारने के मकसद से यह कदम उठाया गया है।  इस मनमानी को रोकने के लिए कुलपति प्रो. नागेश्वर राव ऐसे विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिका मंगवाएंगे। संबंधित विषय के विशेषज्ञ को बुलाकर अपने सामने मूल्यांकन कराएंगे। मूल्यांकन में लापरवाही मिलने पर संबंधित शिक्षक के खिलाफ भी कार्रवाई की संस्तुति की जाएगी।  

असाइनमेंट के अंक 40 से हो गए 20 

मुक्त विश्वविद्यालय में अभी तक एक विषय का असाइनमेंट वर्क 40 अंकों का था। काम किसी भी तरह का हो लेकिन असाइनमेंट वर्क में अधिकतम अंक दिए जा रहे थे। इस स्थिति को रोकने के लिए विश्वविद्यालय ने अब असाइनमेंट वर्क 20 अंकों का कर दिया है। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रों नागेश्वर राव ने बताया कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय की ओर से दी जाने वाले दूरस्थ शिक्षा में पूरी तरह गुणवत्ता बनी रहे इस वजह से  पहल की है। मनमानी को रोकने के लिए भी पुनर्मूल्यांकन कराया जाएगा। 

Todays Beets: