Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

अल्मोड़ा की चौबटिया में होगा भारत और अमेरिका का संयुक्त युद्धाभ्यास, आपदा प्रबंधन एवं काउंटर इनसर्जेंसी पर होगा काम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अल्मोड़ा की चौबटिया में होगा भारत और अमेरिका का संयुक्त युद्धाभ्यास, आपदा प्रबंधन एवं काउंटर इनसर्जेंसी पर होगा काम

अल्मोड़ा। उत्तराखंड एक बार फिर से भारत और अमेरिका की सेना के संयुक्त युद्धाभ्यास का गवाह बनने जा रहा है। इस बार उत्तराखंड में अल्मोड़ा जिले के चौबटिया में 16 से 29 सितंबर के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास होगा। ऐसा माना जा रहा है कि दिल्ली में दोनों देशों के बीच हुए टू प्लस टू वार्ता का नतीजा है। हालांकि सेना की ओर से कहा गया है कि हर एक साल के बाद सैन्य अभ्यास होता है। इससे पहले पिथौरागढ़ में संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन किया गया था।

गौरतलब है कि इस बार अल्मोड़ा जिले के चैबटिया में 16 से 29 सितंबर के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास को पहले के मुकाबले अपग्रेड कर दिया गया है।  अब इसे बटालियन स्तर की फील्ड ट्रेनिंग एक्सरसाइज (एफटीएक्स) और एक डिविजन स्तर की कमांड पोस्ट एक्ससाइज (सीपीएक्स) कर दिया गया है। सेना के जनसंपर्क अधिकारी का कहना है कि युद्धाभ्यास की तारीख तय हो चुकी है और इस अभ्यास के दौरान काउंटर इनसर्जेंसी और आपदा प्रबंधन के क्षेत्र मंे साथ मिलकर काम करने पर काम किया जाएगा। 

ये भी पढ़ें - प्राईवेट स्कूल एक्ट में होगा बड़ा बदलाव, निजी स्कूलों की मनमानी पर लगेगी रोक


यहां बता दें कि इस साल करीब 400 भारतीय और 400 अमेरिकी सैनिक इस युद्धाभ्यास में शामिल होंगे। 15 गढ़वाल राइफल्स के जवान इस अभ्यास का हिस्सा बनेंगे। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल यह अभ्यास अमेरिका के लुईस मैकॉर्ड ज्वाइंट बेस पर हुआ था। रक्षा मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि दोनों देशों के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास को आगे बढ़ाते हुए इसमें पहली बार भारत की तीनों सेनाओं को शामिल किया जाएगा। यह अभ्यास अगले साल 2019 में पूर्वी भारत के तट पर अमेरिका के साथ करने का फैसला लिया गया है।

 

Todays Beets: