Monday, November 19, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

अल्मोड़ा की चौबटिया में होगा भारत और अमेरिका का संयुक्त युद्धाभ्यास, आपदा प्रबंधन एवं काउंटर इनसर्जेंसी पर होगा काम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अल्मोड़ा की चौबटिया में होगा भारत और अमेरिका का संयुक्त युद्धाभ्यास, आपदा प्रबंधन एवं काउंटर इनसर्जेंसी पर होगा काम

अल्मोड़ा। उत्तराखंड एक बार फिर से भारत और अमेरिका की सेना के संयुक्त युद्धाभ्यास का गवाह बनने जा रहा है। इस बार उत्तराखंड में अल्मोड़ा जिले के चौबटिया में 16 से 29 सितंबर के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास होगा। ऐसा माना जा रहा है कि दिल्ली में दोनों देशों के बीच हुए टू प्लस टू वार्ता का नतीजा है। हालांकि सेना की ओर से कहा गया है कि हर एक साल के बाद सैन्य अभ्यास होता है। इससे पहले पिथौरागढ़ में संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन किया गया था।

गौरतलब है कि इस बार अल्मोड़ा जिले के चैबटिया में 16 से 29 सितंबर के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास को पहले के मुकाबले अपग्रेड कर दिया गया है।  अब इसे बटालियन स्तर की फील्ड ट्रेनिंग एक्सरसाइज (एफटीएक्स) और एक डिविजन स्तर की कमांड पोस्ट एक्ससाइज (सीपीएक्स) कर दिया गया है। सेना के जनसंपर्क अधिकारी का कहना है कि युद्धाभ्यास की तारीख तय हो चुकी है और इस अभ्यास के दौरान काउंटर इनसर्जेंसी और आपदा प्रबंधन के क्षेत्र मंे साथ मिलकर काम करने पर काम किया जाएगा। 

ये भी पढ़ें - प्राईवेट स्कूल एक्ट में होगा बड़ा बदलाव, निजी स्कूलों की मनमानी पर लगेगी रोक


यहां बता दें कि इस साल करीब 400 भारतीय और 400 अमेरिकी सैनिक इस युद्धाभ्यास में शामिल होंगे। 15 गढ़वाल राइफल्स के जवान इस अभ्यास का हिस्सा बनेंगे। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल यह अभ्यास अमेरिका के लुईस मैकॉर्ड ज्वाइंट बेस पर हुआ था। रक्षा मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि दोनों देशों के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास को आगे बढ़ाते हुए इसमें पहली बार भारत की तीनों सेनाओं को शामिल किया जाएगा। यह अभ्यास अगले साल 2019 में पूर्वी भारत के तट पर अमेरिका के साथ करने का फैसला लिया गया है।

 

Todays Beets: