Sunday, February 17, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

उत्तराखंड में फिर शिक्षक भर्ती की होगी जांच , 17 अशासकीय महाविद्यालयों के खंगाले जाएंगे रिकॉर्ड

अंग्वाल संवाददाता
उत्तराखंड में फिर शिक्षक भर्ती की होगी जांच , 17 अशासकीय महाविद्यालयों के खंगाले जाएंगे रिकॉर्ड

देहरादून। उत्तराखंड में अशासकीय महाविद्यालयों में शिक्षकों की भर्ती प्रणाली पर सवाल खड़े हुए हैं। ऐसे में शासन ने प्रदेश के 17 सहायता प्राप्त अशासकीय महाविद्यालयों में आरक्षण रोस्टर प्रणाली को खारिज कर शिक्षकों (लेक्चरर) की भर्ती की जांच के आदेश दिए हैं। इतना ही नहीं इस जांच के लिए अधिकारी भी नियुक्त कर दिए हैं। इस अफसरों से एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट मांगी गई है। अपर मुख्य सचिव डॉ.रणबीर सिंह की ओर जारी आदेश के बाद सरकारी महाविद्यालयों के प्राचार्यों और कुछ एसोसिएट प्रोफेसरों को जांच अधिकारी बनाया गया है।

प्राचार्य परिषद ने उठाए सवाल

भर्ती को लेकर उठे सवालों के बाद शासन के जांच के आदेश पर प्राचार्य परिषद ने सवाल उठाए हैं। परिषद ने बृहस्पतिवार को इस संबंध में बैठक की, जिसमें परिषद के अध्यक्ष बीए बौड़ाई ने सवाल उठाया कि किसी प्राचार्य की जांच कोई एसोसिएट प्रोफेसर स्तर का शिक्षक कैसे कर सकता है? यह भी आरोप लगाया कि सभी अशासकीय महाविद्यालयों की भर्ती प्रक्रिया को लटकाने के लिए सरकार यह जांच करा रही है, जबकि सभी भर्तियां रोस्टर प्रणाली के मुताबिक की गईं हैं।

ये होंगे जांच के बिंदु

असल में अपर मुख्य सचिव डॉ.रणबीर सिंह की ओर जारी आदेश के बाद सभी महाविद्यालयों में 31 अगस्त 2001, 21 जनवरी 2006 और 26 मई 2008 के शासनादेश के तहत रोस्टर प्रणाली की जांच की जाएगी। देखा जाएगा कि इन महाविद्यालयों में जो रोस्टर प्रणाली बनाई गई, क्या उसके तहत भर्ती हुईं? जहां स्टर प्रणाली के विरुद्ध भर्ती हुईं वहां जांच होगी। सरकार को यही रिपोर्ट सप्ताहभर में शासन को देनी है।


इन कॉलेजों की होगी जांच

जिन कॉलेजों की जांच होगी उसमें 1- देहरादून के डोईवाला का डीबीएस पीजी कॉलेज , 2- एमकेपी पीजी कॉलेज, देहरादून , 3- एमपीजी कॉलेज, मसूरी , 4- चिन्मय डिग्री कॉलेज, हरिद्वार , 5-चंद्रवती तिवारी कन्या महाविद्यालय, काशीपुर ऊधमसिंह नगर   6- श्री सनातन धर्म प्रकाश चंद्र कन्या महाविद्यालय, रुड़की , 7- डीएवी पीजी कॉलेज, देहरादून  , 8- एसजीआरआर पीजी कॉलेज देहरादून , 9- बीएसएम पीजी कॉलेज, रुड़की  , 10- बालगंगा महाविद्यालय, सेंदुल टिहरी गढ़वाल , 11- राठ महाविद्यालय, पैठाणी, पौड़ी गढ़वाल , 12- केएलडीएवी कॉलेज, रुड़की , 13- डीडब्ल्यूटी कॉलेज, देहरादून , 14-चमनलाल महाविद्यालय, रुड़की  ,  15-आरएमपीपी कॉलेज, गुरुकुल नारसन, हरिद्वार , 16-महिला महाविद्यालय, सतीकुंड, कनखल, हरिद्वार    17-एसएमजेएन कॉलेज नारसन, हरिद्वार 

 

 

Todays Beets: