Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

दून में फर्जी राशन कार्ड के जरिए हो रहा खाद्यान्न घोटाला, डीएम ने दिए जांच के आदेश  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून में फर्जी राशन कार्ड के जरिए हो रहा खाद्यान्न घोटाला, डीएम ने दिए जांच के आदेश  

देहरादून। राज्य में फर्जी राशन कार्ड के आधार पर खाद्यान्न बांटने का मामला सामने आया है। एक शिकायतकर्ता के द्वारा 11 राशन डीलरों की शिकायत सीएम और डीएम से की गई थी इसके बाद जिलापूर्ति अधिकारी विपिन कुमार ने जांच बैठा दी है।  जांच की सूचना मिलने के बाद राशन डीलरों में हड़कंप मचा हुआ है। 

11 डीलरों के खिलाफ शिकायत

बता दें कि दून के एक अधिवक्ता द्वारा 11 राशन डीलरों के नाम सीएम और देहरादून के डीएम मुरुगेशन से शिकायत की थी इसमें कहा गया था कि ये लोग फर्जी राशन कार्ड के आधार पर राशन का घोटाला कर रहे हैं। फर्जी राशन कार्ड रखने वाले डीलरों में चुक्खूवाला से रवि शर्मा और राजेंद्र अग्रवाल, कारगी से मयंक गुप्ता, डाकरा के नरेंद्र सिंह चंदेल, कांवली रोड से नीरज, परिसीमन क्षेत्र कुसुम लता शर्मा, जीएमएस रोड सुशील कुमार, रेस्ट कैंप धर्मपुर सचिन बंसल, परिसीमन क्षेत्र विमला शर्मा, चकराता रोड से हरबंस सिंह एवं संस, रेसकोर्स पुलिस लाइन से राजेश सजवाण के नाम शिकायती पत्र में हैं। 

ये भी पढ़ें - केन्द्र ने विशिष्ट बीटीसी वाले शिक्षकों को दिया झटका, ब्रिज कोर्स करना किया अनिवार्य


फूड इंस्पेक्टर पर गिरेगी गाज

गौरतलब है कि इस मामले को डीएम ने गंभीरता से लिया है और राशन डीलरों के खिलाफ जांच बैठा दी है और जिलापूर्ति अधिकारी को 15 दिन में जांचकर रिपोर्ट मांगी है। जिलापूर्ति अधिकारी विपिन कुमार ने बताया कि इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है। अब राज्य के राशन डीलरों के साथ फूड इंस्पेक्टरों में भी हड़कंप मचा हुआ है क्योंकि सभी राशन कार्ड पर फूड इंस्पेक्टर की मुहर लगी होती है। ऐसे में अगर फर्जीवाड़ा का पता चलता है तो इनपर भी कार्रवाईकी जा सकती है।  

 

Todays Beets: