Thursday, October 19, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

दून में फर्जी राशन कार्ड के जरिए हो रहा खाद्यान्न घोटाला, डीएम ने दिए जांच के आदेश  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून में फर्जी राशन कार्ड के जरिए हो रहा खाद्यान्न घोटाला, डीएम ने दिए जांच के आदेश  

देहरादून। राज्य में फर्जी राशन कार्ड के आधार पर खाद्यान्न बांटने का मामला सामने आया है। एक शिकायतकर्ता के द्वारा 11 राशन डीलरों की शिकायत सीएम और डीएम से की गई थी इसके बाद जिलापूर्ति अधिकारी विपिन कुमार ने जांच बैठा दी है।  जांच की सूचना मिलने के बाद राशन डीलरों में हड़कंप मचा हुआ है। 

11 डीलरों के खिलाफ शिकायत

बता दें कि दून के एक अधिवक्ता द्वारा 11 राशन डीलरों के नाम सीएम और देहरादून के डीएम मुरुगेशन से शिकायत की थी इसमें कहा गया था कि ये लोग फर्जी राशन कार्ड के आधार पर राशन का घोटाला कर रहे हैं। फर्जी राशन कार्ड रखने वाले डीलरों में चुक्खूवाला से रवि शर्मा और राजेंद्र अग्रवाल, कारगी से मयंक गुप्ता, डाकरा के नरेंद्र सिंह चंदेल, कांवली रोड से नीरज, परिसीमन क्षेत्र कुसुम लता शर्मा, जीएमएस रोड सुशील कुमार, रेस्ट कैंप धर्मपुर सचिन बंसल, परिसीमन क्षेत्र विमला शर्मा, चकराता रोड से हरबंस सिंह एवं संस, रेसकोर्स पुलिस लाइन से राजेश सजवाण के नाम शिकायती पत्र में हैं। 

ये भी पढ़ें - केन्द्र ने विशिष्ट बीटीसी वाले शिक्षकों को दिया झटका, ब्रिज कोर्स करना किया अनिवार्य


फूड इंस्पेक्टर पर गिरेगी गाज

गौरतलब है कि इस मामले को डीएम ने गंभीरता से लिया है और राशन डीलरों के खिलाफ जांच बैठा दी है और जिलापूर्ति अधिकारी को 15 दिन में जांचकर रिपोर्ट मांगी है। जिलापूर्ति अधिकारी विपिन कुमार ने बताया कि इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है। अब राज्य के राशन डीलरों के साथ फूड इंस्पेक्टरों में भी हड़कंप मचा हुआ है क्योंकि सभी राशन कार्ड पर फूड इंस्पेक्टर की मुहर लगी होती है। ऐसे में अगर फर्जीवाड़ा का पता चलता है तो इनपर भी कार्रवाईकी जा सकती है।  

 

Todays Beets: