Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

दून में फर्जी राशन कार्ड के जरिए हो रहा खाद्यान्न घोटाला, डीएम ने दिए जांच के आदेश  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून में फर्जी राशन कार्ड के जरिए हो रहा खाद्यान्न घोटाला, डीएम ने दिए जांच के आदेश  

देहरादून। राज्य में फर्जी राशन कार्ड के आधार पर खाद्यान्न बांटने का मामला सामने आया है। एक शिकायतकर्ता के द्वारा 11 राशन डीलरों की शिकायत सीएम और डीएम से की गई थी इसके बाद जिलापूर्ति अधिकारी विपिन कुमार ने जांच बैठा दी है।  जांच की सूचना मिलने के बाद राशन डीलरों में हड़कंप मचा हुआ है। 

11 डीलरों के खिलाफ शिकायत

बता दें कि दून के एक अधिवक्ता द्वारा 11 राशन डीलरों के नाम सीएम और देहरादून के डीएम मुरुगेशन से शिकायत की थी इसमें कहा गया था कि ये लोग फर्जी राशन कार्ड के आधार पर राशन का घोटाला कर रहे हैं। फर्जी राशन कार्ड रखने वाले डीलरों में चुक्खूवाला से रवि शर्मा और राजेंद्र अग्रवाल, कारगी से मयंक गुप्ता, डाकरा के नरेंद्र सिंह चंदेल, कांवली रोड से नीरज, परिसीमन क्षेत्र कुसुम लता शर्मा, जीएमएस रोड सुशील कुमार, रेस्ट कैंप धर्मपुर सचिन बंसल, परिसीमन क्षेत्र विमला शर्मा, चकराता रोड से हरबंस सिंह एवं संस, रेसकोर्स पुलिस लाइन से राजेश सजवाण के नाम शिकायती पत्र में हैं। 

ये भी पढ़ें - केन्द्र ने विशिष्ट बीटीसी वाले शिक्षकों को दिया झटका, ब्रिज कोर्स करना किया अनिवार्य


फूड इंस्पेक्टर पर गिरेगी गाज

गौरतलब है कि इस मामले को डीएम ने गंभीरता से लिया है और राशन डीलरों के खिलाफ जांच बैठा दी है और जिलापूर्ति अधिकारी को 15 दिन में जांचकर रिपोर्ट मांगी है। जिलापूर्ति अधिकारी विपिन कुमार ने बताया कि इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है। अब राज्य के राशन डीलरों के साथ फूड इंस्पेक्टरों में भी हड़कंप मचा हुआ है क्योंकि सभी राशन कार्ड पर फूड इंस्पेक्टर की मुहर लगी होती है। ऐसे में अगर फर्जीवाड़ा का पता चलता है तो इनपर भी कार्रवाईकी जा सकती है।  

 

Todays Beets: