Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

बागेश्वर। उत्तराखंड में मौसमी बदलाव और ग्लोबल वाॅर्मिंग का उदाहरण देखने को मिला है। आमतौर पर उत्तराखंड का विशेष फल, काफल, माच-अप्रैल में पकता है लेकिन कौसानी के टीआरसी में पेड फलों से लदे हुए दिखाई दिए हैं जिनमंे से कुछ पके हुए भी है। समय से पहले फलों के पकने से वैज्ञानिकों में हैरानगी है। फिलहाल यह लोगों के लिए कौतूहल का विषय बना हुआ है।

वैज्ञानिक भी हैरान

गौरतलब है कि काफल के समय से पहले पकने को कुछ वैज्ञानिक ग्लोबल वाॅर्मिंग का असर मान रहे हैं वहीं कुछ इसे जेनेटिक चेंज मान रहे हैं। राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद के पूर्व महरनिदेशक जीएस रौतेला का कहना है कि यह आश्चर्यजनक है और ऐसा जेनेटिक बदलाव की वजह से हो सकता है। वहीं जिला उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह का कहना है कि अभी काफल के पकने के लायक तापमान नहीं हुआ है ऐसे में यह ग्लोबल वाॅर्मिंग का ही असर हो सकता है।

 


ये भी पढ़ें - प्रदेश के नौजवानों को सरकार नए साल पर देगी बड़ा तोहफा, सैकड़ों पदों पर होंगी भर्तियां  

 

Todays Beets: