Friday, August 17, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

बागेश्वर। उत्तराखंड में मौसमी बदलाव और ग्लोबल वाॅर्मिंग का उदाहरण देखने को मिला है। आमतौर पर उत्तराखंड का विशेष फल, काफल, माच-अप्रैल में पकता है लेकिन कौसानी के टीआरसी में पेड फलों से लदे हुए दिखाई दिए हैं जिनमंे से कुछ पके हुए भी है। समय से पहले फलों के पकने से वैज्ञानिकों में हैरानगी है। फिलहाल यह लोगों के लिए कौतूहल का विषय बना हुआ है।

वैज्ञानिक भी हैरान

गौरतलब है कि काफल के समय से पहले पकने को कुछ वैज्ञानिक ग्लोबल वाॅर्मिंग का असर मान रहे हैं वहीं कुछ इसे जेनेटिक चेंज मान रहे हैं। राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद के पूर्व महरनिदेशक जीएस रौतेला का कहना है कि यह आश्चर्यजनक है और ऐसा जेनेटिक बदलाव की वजह से हो सकता है। वहीं जिला उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह का कहना है कि अभी काफल के पकने के लायक तापमान नहीं हुआ है ऐसे में यह ग्लोबल वाॅर्मिंग का ही असर हो सकता है।

 


ये भी पढ़ें - प्रदेश के नौजवानों को सरकार नए साल पर देगी बड़ा तोहफा, सैकड़ों पदों पर होंगी भर्तियां  

 

Todays Beets: