Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

बागेश्वर। उत्तराखंड में मौसमी बदलाव और ग्लोबल वाॅर्मिंग का उदाहरण देखने को मिला है। आमतौर पर उत्तराखंड का विशेष फल, काफल, माच-अप्रैल में पकता है लेकिन कौसानी के टीआरसी में पेड फलों से लदे हुए दिखाई दिए हैं जिनमंे से कुछ पके हुए भी है। समय से पहले फलों के पकने से वैज्ञानिकों में हैरानगी है। फिलहाल यह लोगों के लिए कौतूहल का विषय बना हुआ है।

वैज्ञानिक भी हैरान

गौरतलब है कि काफल के समय से पहले पकने को कुछ वैज्ञानिक ग्लोबल वाॅर्मिंग का असर मान रहे हैं वहीं कुछ इसे जेनेटिक चेंज मान रहे हैं। राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद के पूर्व महरनिदेशक जीएस रौतेला का कहना है कि यह आश्चर्यजनक है और ऐसा जेनेटिक बदलाव की वजह से हो सकता है। वहीं जिला उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह का कहना है कि अभी काफल के पकने के लायक तापमान नहीं हुआ है ऐसे में यह ग्लोबल वाॅर्मिंग का ही असर हो सकता है।

 


ये भी पढ़ें - प्रदेश के नौजवानों को सरकार नए साल पर देगी बड़ा तोहफा, सैकड़ों पदों पर होंगी भर्तियां  

 

Todays Beets: