Thursday, February 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
समय से पहले पका काफल बना कौतूहल का विषय, वैज्ञानिक भी हैरान

बागेश्वर। उत्तराखंड में मौसमी बदलाव और ग्लोबल वाॅर्मिंग का उदाहरण देखने को मिला है। आमतौर पर उत्तराखंड का विशेष फल, काफल, माच-अप्रैल में पकता है लेकिन कौसानी के टीआरसी में पेड फलों से लदे हुए दिखाई दिए हैं जिनमंे से कुछ पके हुए भी है। समय से पहले फलों के पकने से वैज्ञानिकों में हैरानगी है। फिलहाल यह लोगों के लिए कौतूहल का विषय बना हुआ है।

वैज्ञानिक भी हैरान

गौरतलब है कि काफल के समय से पहले पकने को कुछ वैज्ञानिक ग्लोबल वाॅर्मिंग का असर मान रहे हैं वहीं कुछ इसे जेनेटिक चेंज मान रहे हैं। राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद के पूर्व महरनिदेशक जीएस रौतेला का कहना है कि यह आश्चर्यजनक है और ऐसा जेनेटिक बदलाव की वजह से हो सकता है। वहीं जिला उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह का कहना है कि अभी काफल के पकने के लायक तापमान नहीं हुआ है ऐसे में यह ग्लोबल वाॅर्मिंग का ही असर हो सकता है।

 


ये भी पढ़ें - प्रदेश के नौजवानों को सरकार नए साल पर देगी बड़ा तोहफा, सैकड़ों पदों पर होंगी भर्तियां  

 

Todays Beets: