Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

कुमाऊं और गढ़वाल मंडल को जोड़ने वाला कंडी मार्ग एक बार फिर खुलेगा, वन विभाग से अनुमति की जरूरत नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कुमाऊं और गढ़वाल मंडल को जोड़ने वाला कंडी मार्ग एक बार फिर खुलेगा, वन विभाग से अनुमति की जरूरत नहीं

देहरादून। राज्य सरकार गढ़वाल और कुमाऊं को सीधे जोड़ने वाले कंडी मार्ग को लेकर एक अहम फैसला लिया है। सरकार ने कहा कि इसके डामरीकरण के लिए वन विभाग से क्लियरेंस लेने की जरूरत नहीं है। इसके लिए उस फैसले को आधार बनाया गया, जिसमें यह साफ है कि वन अधिनियम लागू होने से पहले यदि जंगल से गुजरने वाली कोई सड़क डामरीकृत थी तो उसके लिए फॉरेस्ट क्लीयरेंस की जरूरत नहीं है। लोक निर्माण विभाग अब इसका डामरीकरण करेगा। राज्य सरकार की तरफ से कहा गया है कि यह रास्ता काफी समय से बंद था लेकिन राज्य के लोगों को आसान और सुगम मार्ग मुहैया कराने के मकसद से इस रास्ते को दोबारा खोलने की तैयारी की जा रही है। 

वन विभाग से अनुमति की जरूरत नहीं

गौरतलब है कि पुराने समय में गढ़वाल और कुमाऊं क्षेत्र को आपस में जोड़ने के लिए कंडी मार्ग का इस्तेमाल किया जाता रहा है लेकिन काफी समय से यह बंद पड़ा था। गढ़वाल व कुमाऊं मंडलों को राज्य के भीतर ही सीधे सड़क से जोड़ने वाली कंडी रोड के लालढांग-चिलरखाल (कोटद्वार) के निर्माण को लेकर सरकार ने ऐतिहासिक फैसला लिया है। यह रास्ता पहले से ही डामरीकृत थी इस वजह से इसके लिए वन विभाग से अनुमति लेने की जरूरत नहीं है। आपको बता दें कि राज्य का लोक निर्माण विभाग अब इस रास्ते का डामरीकरण का काम शुरू करेगा। 

ये भी पढ़ें - हरिद्वार के स्कूलों में 4 और फर्जी शिक्षक आए एसआईटी की जांच के दायरे में, जारी हुए नोटिस

पुराने समय से थी जारी 

आपको बता दें कि अंग्रेजी शासनकाल से चली आ रही कंडी रोड (रामनगर-कालागढ़-कोटद्वार-लालढांग) मार्ग के कोटद्वार से रामनगर तक का हिस्सा कार्बेट टाइगर रिजर्व में पड़ता है और इसी को लेकर विवाद है। लैंसडौन वन प्रभाग के अंतर्गत चिलरखाल (कोटद्वार)-लालढांग(हरिद्वार) वाले हिस्से पर कोई विवाद नहीं है। इसे देखते हुए राज्य गठन के बाद से यह मांग उठती आ रही कि पहले चरण में इस हिस्से का निर्माण करा दिया जाए, ताकि कोटद्वार (गढ़वाल) आने-जाने को उप्र के बिजनौर क्षेत्र से होकर गुजरने के झंझट से मुक्ति मिल सके। अब सरकार  ने लालढांग-चिलरखाल मार्ग को डामरीकृत सड़क बनाने का निश्चय किया है।

 

 

 


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Todays Beets: