Thursday, September 21, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

जल्द ही बिल्कुल नए स्वरूप में दिखेगा केदारनाथ धाम, पुनर्निर्माण कार्य को तेज करने के निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जल्द ही बिल्कुल नए स्वरूप में दिखेगा केदारनाथ धाम, पुनर्निर्माण कार्य को तेज करने के निर्देश

देहरादून। केदारनाथ की यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को जल्द ही केदारनाथ धाम एक बदले स्वरूप में नजर आएगा। यहां हो रहे पुनर्निमाण कार्यों को पूरा करने के लिए प्रदेश सरकार ने अक्टूबर 2018 तक का लक्ष्य रखा है। काम पूरा होते ही एक नया केदारपुरी अगले वर्ष दशहरे के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की जनता को समर्पित करेंगे। इसके लिए केंद्र ने प्रदेश सरकार को पुनर्निर्माण कार्यों में तेजी लाने के लिए मिशन मोड में कराने के निर्देश दिए हैं। 

पुनर्निर्माण कार्य

गौरतलब है कि 1 जून 2013 की भयावह आपदा में केदारघाटी में भारी तबाही हुई। इस आपदा में केदारनाथ धाम में मंदिर को छोड़कर बाकी पूरा क्षेत्र प्रभावित हुआ था। उसके बाद से ही इस क्षेत्र को नए सिरे से बसाने की पहल की जा रही है। इसके लिए केन्द्र के साथ विभिन्न औद्योगिक समूहों और संस्थानों की मदद भी ली जा रही है। बता दें कि केदारनाथ धाम के आसपास नदी पर सुरक्षा दीवार, मंदाकिनी व सरस्वती नदी के संगम पर घाट निर्माण किया जाना है। यह कार्य टिहरी हाइड्रोपावर डेवलपमेंट काॅरपोरेशन (टीएचडीसी) के माध्यम से होगा। 

ये भी पढ़ें -आने वाले 20 दिनों तक उत्तराखंड रहेगा राजनीति का केन्द्र, राष्ट्रपति से लेकर प्रधानमंत्री तक क...


केदारनाथ की महिमा

यहां यह भी बता दें कि सरस्वती नदी में बाढ़ सुरक्षा का कार्य जिंदल ग्रुप करेगा। इसका प्रस्ताव केदारनाथ विकास प्राधिकरण को दिया जा चुका है। केदारनाथ मंदिर के द्वार से सरस्वती एवं मंदाकिनी नदी के संगम पर 300 मीटर के दायरे में  लाउडस्पीकर लगाए जाने हैं। इनसे भजन एवं संगीत के जरिए दर्शन के लिए आए श्रद्धालुओं को केदारनाथ की महिमा सुनाई जाएगी। इसी 300 मीटर के दायरे में दो स्थानों पर ऑक्सीजन की व्यवस्था भी की जाएगी ताकि जरूरत पड़ने पर यात्रियों को इसे उपलब्ध कराया जा सके। केदारनाथ में आपदा के दौरान तीर्थ पुरोहितों के साथ सरकार ने 113 घर बनाकर देने का करार किया था। इनमें से अभी तक 40 घर ही बन पाए हैं। अब शेष 73 घरों का निर्माण जिंदल ग्रुप ने करना है। इसमें केदारपुरी के मास्टर प्लान का पूरा ध्यान रखा जाएगा। इसके साथ ही वहां पैदल ट्रैक और कूड़ा प्रबंधन की भी व्यवस्था की जानी है। 

Todays Beets: