Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

किडनी रैकेट में स्वास्थ्य विभाग का नया खुलासा, अस्पताल में ही होता था ट्रांसप्लांट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किडनी रैकेट में स्वास्थ्य विभाग का नया खुलासा, अस्पताल में ही होता था ट्रांसप्लांट

देहरादून। देहरादून में अवैध तरीके से चल रहे किडनी रैकेट मामले में स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में कई तथ्यों का खुलासा हो रहा है। विभाग की रिपोर्ट में इस बात का भी पता चला है कि उसी अस्पताल में किडनी ट्रांसप्लांट किया जाता था। लालतप्पड़ इलाके में स्थित गंगोत्री अस्पताल में किडनी के कारोबार को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने रिपोर्ट पुलिस प्रशासन को दे दी है। रिपोर्ट के अनुसार अस्पताल में चार बेड का हाईटेक आईसीयू है। साथ ही दो डायलिसिस मशीनें और दो ऑपरेशन थिएटर(ओटी) भी हैं। बता दें कि किडनी ट्रांसप्लांट के दौरान चार विदेशी नागरिकों की मौत भी हो चुकी है।  

ट्रांसप्लांट भी अस्पताल में ही

गौरतलब है कि विशेषज्ञों की राय के अनुसार किडनी निकालने से एक दिन पहले मरीज को डायलिसिस की जरूरत पड़ती है। उसके बाद किडनी निकाली जाती है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के आधार पर ऐसा माना जा रहा है कि अस्पताल में मौजूद आॅपरेशन थियेटर में ही किडनी निकालकर दूसरे को लगा दी जाती थी। ऐसा इसलिए कियास जाता था क्योंकि किडनी निकालने के 72 घंटों के अंदर उसे दूसरे व्यक्ति को लगाना पड़ता है। 


ये भी पढ़ें - कोटद्वार में वकील को दिन-दहाड़े बदमाशों ने मारी गोली, पुलिस बदमाशों की तलाश में जुटी

चार बैंक खातों का खुलासा

आपको बता दें कि अस्पताल में ट्रांसप्लांट से जुड़ी दवाएं और उपकरण मिलने की वजह से स्वास्थ्य विभाग की जांच टीम ने यही मान रही है कि अस्पताल के अंदर ही ट्रांसप्लांट किया जाता था। सीएमओ डा. टीसी पंत ने बताया कि जांच रिपोर्ट एसएसपी को दे दी है। अब आगे का काम पुलिस ने करना है। किडनी रैकेट की जांच कर रही टीम को रैकेट संचालक के बेटे डॉ. अक्षय संतोष राउत के चार बैंक खाते मिले हैं जिसमें इंडसइंड बैंक खाते में 72 लाख रुपये जमा हैं। 

Todays Beets: