Tuesday, July 17, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

किडनी रैकेट में स्वास्थ्य विभाग का नया खुलासा, अस्पताल में ही होता था ट्रांसप्लांट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किडनी रैकेट में स्वास्थ्य विभाग का नया खुलासा, अस्पताल में ही होता था ट्रांसप्लांट

देहरादून। देहरादून में अवैध तरीके से चल रहे किडनी रैकेट मामले में स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में कई तथ्यों का खुलासा हो रहा है। विभाग की रिपोर्ट में इस बात का भी पता चला है कि उसी अस्पताल में किडनी ट्रांसप्लांट किया जाता था। लालतप्पड़ इलाके में स्थित गंगोत्री अस्पताल में किडनी के कारोबार को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने रिपोर्ट पुलिस प्रशासन को दे दी है। रिपोर्ट के अनुसार अस्पताल में चार बेड का हाईटेक आईसीयू है। साथ ही दो डायलिसिस मशीनें और दो ऑपरेशन थिएटर(ओटी) भी हैं। बता दें कि किडनी ट्रांसप्लांट के दौरान चार विदेशी नागरिकों की मौत भी हो चुकी है।  

ट्रांसप्लांट भी अस्पताल में ही

गौरतलब है कि विशेषज्ञों की राय के अनुसार किडनी निकालने से एक दिन पहले मरीज को डायलिसिस की जरूरत पड़ती है। उसके बाद किडनी निकाली जाती है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के आधार पर ऐसा माना जा रहा है कि अस्पताल में मौजूद आॅपरेशन थियेटर में ही किडनी निकालकर दूसरे को लगा दी जाती थी। ऐसा इसलिए कियास जाता था क्योंकि किडनी निकालने के 72 घंटों के अंदर उसे दूसरे व्यक्ति को लगाना पड़ता है। 


ये भी पढ़ें - कोटद्वार में वकील को दिन-दहाड़े बदमाशों ने मारी गोली, पुलिस बदमाशों की तलाश में जुटी

चार बैंक खातों का खुलासा

आपको बता दें कि अस्पताल में ट्रांसप्लांट से जुड़ी दवाएं और उपकरण मिलने की वजह से स्वास्थ्य विभाग की जांच टीम ने यही मान रही है कि अस्पताल के अंदर ही ट्रांसप्लांट किया जाता था। सीएमओ डा. टीसी पंत ने बताया कि जांच रिपोर्ट एसएसपी को दे दी है। अब आगे का काम पुलिस ने करना है। किडनी रैकेट की जांच कर रही टीम को रैकेट संचालक के बेटे डॉ. अक्षय संतोष राउत के चार बैंक खाते मिले हैं जिसमें इंडसइंड बैंक खाते में 72 लाख रुपये जमा हैं। 

Todays Beets: