Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

उत्तराखंड का लव जेहाद मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, लगाए गए गंभीर आरोप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड का लव जेहाद मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, लगाए गए गंभीर आरोप

देहरादून। उत्तराखंड का कथित लव जेहाद का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है।  इसमें कोर्ट ने सरकार से गुरुवार को होने वाल सुनवाई के दौरान लड़की को पेश करने के निर्देश दिए हैं। बता दें कि इस मामले में मुस्लिम लड़के ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर लड़की को पेश करने की गुहार लगाई है। हिंदू लड़की का कथित तौर पर धर्म परिवर्तित कर मुस्लिम युवक से शादी करने के इस मामले में आरोपी लड़का फिलहाल जेल में है और लड़की अपने पिता के पास है।

गौर करने वाली बात है कि हल्द्वानी के रहने वाले एक मुस्लिम युवक दानिश अहमद ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि वह काठगोदाम की रहने वाली लड़की से प्रेम करता है और दोनांे का निकाह उनकी मर्जी से हुआ है।  यहां बता दें कि लड़की के पिता ने उसके अपहरण का मुकदमा दर्ज करा दिया जिसके बाद उसे और उसकी मां को गिरफ्तार कर लिया गया है।

यहां बता दें कि दानिश ने अपनी याचिका में यह भी कहा कि लड़की को उसकी मर्जी के बिना पिता के पास भेज दिया गया जबकि शादी के बाद उसे अपनी पत्नी के साथ रहने का अधिकार है। उसने कोर्ट ने अनुरोध किया कि लड़की को उसके पिता की गिरफ्त से निकालकर उसके पास रहने की इजाजत दी जाए। 


ये भी पढ़ें - राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने की कोशिशें तेज, हिमालय माउंटेन होम में दिखेगी पहाड़ी संस्कृति

वहीं उत्तराखंड सरकार की ओर से पेश हुए डिप्टी एडवोकेट जनरल मनोज गोरकेला ने पीठ के समक्ष कहा कि आरोपी ने 18 अप्रैल को युवती का अपहरण किया और अगले दिन गाजियाबाद में फर्जी तरीके से युवती का धर्मांतरण कर उसके साथ शादी कर ली। उनका कहना था निकाहनामा फर्जी है और धर्म परिवर्तन से संबंधित दस्तावेज भी फर्जी हैं। बहरहाल पीठ ने कहा कि पहले वह लड़की से बातचीत करना चाहती है।    

Todays Beets: