Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

एक साथ दो मान्यता रखने वाले मदरसों बोर्ड हुआ सख्त, अब होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक साथ दो मान्यता रखने वाले मदरसों बोर्ड हुआ सख्त, अब होगी कार्रवाई

देहरादून। राज्य में एक साथ दो -दो संस्थाओं से मान्यता लेकर फायदा उठाने वाले मदरसों पर मदरसा बोर्ड सख्त हो गया है। यहां कई ऐसे मदरसा हैं जो प्रदेश के शिक्षा विभाग एवं मदरसा बोर्ड से संयुक्त रूप से मान्यता प्राप्त कर दोहरा फायदा उठाने का विकल्प चुन रहे हैं। ऐसे में मदरसा बोर्ड के सामने उलझन वाली स्थिति पैदा हो जाती है।  अब बोर्ड ने इसको लेकर सभी मदरसों को एक ही संस्था की मान्यता लेने के कड़े आदेश जारी किए हैं।

एक साथ दो मान्यता

गौरतलब है कि अल्पसंख्यक निदेशालय में हुई उत्तराखंड मदरसा शिक्षा बोर्ड की मान्यता समिति ने राज्य में चल रहे मदरसों की मान्यता पर गंभीरता से विचार किया। बता दें कि जब मदरसा बोर्ड का वजूद नहीं था तब यूपी के समय से संचालित मदरसों को शिक्षा विभाग की मान्यता दी गई थी लेकिन 2012 में मदरसा बोर्ड की स्थापना होने के बाद मदरसों ने आगे की कक्षाओं में मदरसा बोर्ड की मान्यता ले ली। ऐसे में मदरसों में दो-दो मान्यता लागू हो गई। मान्यता समिति के सदस्यों ने यह पाया कि ऐसे कई मदरसे हैं जिन्होंने प्राईमरी तक शिक्षा विभाग और जूनियर या हाई स्कूल से मदरसा बोर्ड की मान्यता ली है। इससे उन मदरसों में दो-दो संस्थाओं की मान्यता लागू होने के कारण मदरसा बोर्ड प्रभावी नहीं हो पा रहा है। 

ये भी पढ़ें - राज्य के बेसहारा बच्चों को सरकार देगी सहारा, सरकारी सेवाओं में मिलेगा आरक्षण


मान्यता नहीं छोड़ने वाले मदरसों पर होगी कार्रवाई

आपको बता दें कि समिति ने कहा कि प्रदेश में इस वक्त से बोर्ड से मान्यता प्राप्त करीब 297 मदरसा हैं। इन मदरसों में कुछ शिक्षा विभाग की संयुक्त मान्यता प्राप्त मदरसे भी शामिल हैं। अब इन मदरसों के लिए एक ही संस्था से मान्यता लेना अनिवार्य कर दिया गया है। अब यह बात मदरसा के ऊपर निर्भर है कि वह शिक्षा विभाग या मदरसा बोर्ड दोनांे में से किसकी मान्यता लेना चाहता है। दोनों संस्थाओं की मान्यता रखने वाले मदरसों पर कार्रवाई की जाएगी। 

 

 

Todays Beets: