Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

एक साथ दो मान्यता रखने वाले मदरसों बोर्ड हुआ सख्त, अब होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक साथ दो मान्यता रखने वाले मदरसों बोर्ड हुआ सख्त, अब होगी कार्रवाई

देहरादून। राज्य में एक साथ दो -दो संस्थाओं से मान्यता लेकर फायदा उठाने वाले मदरसों पर मदरसा बोर्ड सख्त हो गया है। यहां कई ऐसे मदरसा हैं जो प्रदेश के शिक्षा विभाग एवं मदरसा बोर्ड से संयुक्त रूप से मान्यता प्राप्त कर दोहरा फायदा उठाने का विकल्प चुन रहे हैं। ऐसे में मदरसा बोर्ड के सामने उलझन वाली स्थिति पैदा हो जाती है।  अब बोर्ड ने इसको लेकर सभी मदरसों को एक ही संस्था की मान्यता लेने के कड़े आदेश जारी किए हैं।

एक साथ दो मान्यता

गौरतलब है कि अल्पसंख्यक निदेशालय में हुई उत्तराखंड मदरसा शिक्षा बोर्ड की मान्यता समिति ने राज्य में चल रहे मदरसों की मान्यता पर गंभीरता से विचार किया। बता दें कि जब मदरसा बोर्ड का वजूद नहीं था तब यूपी के समय से संचालित मदरसों को शिक्षा विभाग की मान्यता दी गई थी लेकिन 2012 में मदरसा बोर्ड की स्थापना होने के बाद मदरसों ने आगे की कक्षाओं में मदरसा बोर्ड की मान्यता ले ली। ऐसे में मदरसों में दो-दो मान्यता लागू हो गई। मान्यता समिति के सदस्यों ने यह पाया कि ऐसे कई मदरसे हैं जिन्होंने प्राईमरी तक शिक्षा विभाग और जूनियर या हाई स्कूल से मदरसा बोर्ड की मान्यता ली है। इससे उन मदरसों में दो-दो संस्थाओं की मान्यता लागू होने के कारण मदरसा बोर्ड प्रभावी नहीं हो पा रहा है। 

ये भी पढ़ें - राज्य के बेसहारा बच्चों को सरकार देगी सहारा, सरकारी सेवाओं में मिलेगा आरक्षण


मान्यता नहीं छोड़ने वाले मदरसों पर होगी कार्रवाई

आपको बता दें कि समिति ने कहा कि प्रदेश में इस वक्त से बोर्ड से मान्यता प्राप्त करीब 297 मदरसा हैं। इन मदरसों में कुछ शिक्षा विभाग की संयुक्त मान्यता प्राप्त मदरसे भी शामिल हैं। अब इन मदरसों के लिए एक ही संस्था से मान्यता लेना अनिवार्य कर दिया गया है। अब यह बात मदरसा के ऊपर निर्भर है कि वह शिक्षा विभाग या मदरसा बोर्ड दोनांे में से किसकी मान्यता लेना चाहता है। दोनों संस्थाओं की मान्यता रखने वाले मदरसों पर कार्रवाई की जाएगी। 

 

 

Todays Beets: