Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

आदेश की नाफरमानी करने वाले मदरसों पर होगी कार्रवाई, पीएम मोदी की तस्वीर लगाने का है मामला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आदेश की नाफरमानी करने वाले मदरसों पर होगी कार्रवाई, पीएम मोदी की तस्वीर लगाने का है मामला

देहरादून। राज्य में चल रहे मदरसों को सरकार के आदेश की नाफरमानी महंगी पड़ सकती है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तस्वीर नहीं लगाने वाले मदरसों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। सरकारी प्रवक्ता और राज्य के कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने इस बात की जानकारी दी है। वहीं दूसरी तरफ उत्तराखंड मदरसा बोर्ड के डिप्टी रजिस्ट्रार हाजी अखलाक अहमद का कहना है कि उनकी धार्मिक मान्यताओं के अनुसार  मदरसों में किसी भी राजनेता या अन्य हस्तियों के चित्र लगाना मना है।

मदरसा नहीं कर रहे पालन

गौरतलब है कि राज्य में चल रहे मदरसों के साथ सभी शिक्षण संस्थानों को परिसर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तस्वीर लगाने के आदेश दिए थे। इसके पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में वर्ष 2022 तक नए भारत के निर्माण के विजन का हवाला दिया गया था। सरकार द्वारा आदेश दिए जाने के बाद अल्पसंख्यक विभाग ने भी  मदरसों को इसके आदेश दिए गए लेकिन राज्य के किसी मदरसे ने अभी तक इसका पालन नहीं किया है। मदरसों की इस नाफरमानी पर प्रदेश सरकार सख्त हो गई है।

ये भी पढ़ें - सरकारी स्कूलों के छात्रों को 11वीं में दाखिले के लिए नहीं होना पड़ेगा परेशान, नए शिक्षा सत्र स...


मुस्लिम मान्यता की दुहाई

आपको बता दें कि शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि प्रधानमंत्री किसी जाति या धर्म के नहीं होते हैं बल्कि वे पूरे देश के होते हैं। ऐसे में सरकार की तरफ से अगर कोई आदेश जारी किया जाता है तो उसे मानना बाध्यता भी होती है। सरकारी आदेश को न मानने के पीछे मदरसा बोर्ड के डिप्टी रजिस्ट्रार अखलाक अहमद ने यह सफाई भी दी कि इस्लाम की मान्यताओं के चलते आदेश का अनुपालन करने में असमर्थ है। महज धार्मिक भेद के अनुसार प्रधानमंत्री जैसे संवैधानिक व्यक्तित्व का चित्र लगाने से परहेज नहीं किया जा रहा। यदि ऐसा होता तो मदरसा पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का चित्र मदरसों में लगवाया जा सकता था। 

Todays Beets: