Monday, November 19, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

खूबसूरत ‘मासरताल’ बन सकता है पर्यटन का नया मुकाम, 2 अलग रंगों का ताल बना कौतूहल का विषय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
खूबसूरत ‘मासरताल’ बन सकता है पर्यटन का नया मुकाम, 2 अलग रंगों का ताल बना कौतूहल का विषय

देहरादून। उत्तराखंड को कुदरत ने बेपनाह खूबसूरती बख्शी है। यहां की प्राकृतिक खूबसूरती को अपनी यादों में बसा लेने के लिए दुनिया भर से सैलानी आते हैं। केदारनाथ के पैदल कांवड़ यात्रा मार्ग में पड़ने वाला मासरताल भी एक ऐसा ही खूबसूरत स्थल है। यहां पर थोड़ी ही दूरी पर 2 ताल मौजूद है और दोनों का रंग अलग है। एक का रंग हरा है तो दूसरे का रंग मटमैला है। इस जगह को पर्यटन के नक्शे पर लाने के लिए यहां के लोगों ने कई बार यात्रा भी निकाली लेकिन अभी तक कुछ नहीं किया जा सका है।

गौरतलब है कि केदारनाथ पैदल कांवड़ यात्रा के मार्ग में पड़ने वाले इन दोनों तालों में से एक की लंबाई करीब 300 मीटर है तो वहीं दूसरे की लंबाई 250 मीटर है। अभी इनकी गहराई के बारे में पता नहीं लग पाया है। यहां आने वाले लोगों को यह बात हैरान करती है जहां इस रास्ते में पानी का कोई श्रोत नहीं है लेकिन यहां मौजूद 2 अलग-अलग रंगों के ताल उन्हें हैरान करता है।

ये भी पढ़ें - जिलाध्यक्ष की नियुक्ति पर फूटा कांग्रेस कार्यकर्ताओं का गुस्सा, 150 से ज्यादा ने थामा भाजपा का दामन


यहां बता दें कि मासरताल समुद्र तल से करीब 7 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है और बेहद ही खूबसूरत है। सड़क के रास्ते से करीब 9 किलोमीटर पैदल चलने के बाद यहां पहुंचा जा सकता है। यहां पहुंचकर पर्यटक प्रकृति के अद्भुत नजारे को देखकर रोमांचित हो उठते हैं। यहां पर काफी संख्या में पर्यटकों के अलावा ट्रैकर भी पहुंचते हैं। इन दोनों तालों के पानी का अलग रंग सैलानियों के लिए एक रहस्य बना हुआ है। 

गौर करने वाली बात है कि तालों सामने बर्फ से ढंकी पहाड़ी दिखाई देती है। यहां कुछ लोगों ने अपनी छानियां बनाई हुई हैं लेकिन सड़क से दूर होने की वजह से पर्यटन के लिहाज से इसे विकसित नहीं किया जा सका है। 

Todays Beets: