Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

खूबसूरत ‘मासरताल’ बन सकता है पर्यटन का नया मुकाम, 2 अलग रंगों का ताल बना कौतूहल का विषय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
खूबसूरत ‘मासरताल’ बन सकता है पर्यटन का नया मुकाम, 2 अलग रंगों का ताल बना कौतूहल का विषय

देहरादून। उत्तराखंड को कुदरत ने बेपनाह खूबसूरती बख्शी है। यहां की प्राकृतिक खूबसूरती को अपनी यादों में बसा लेने के लिए दुनिया भर से सैलानी आते हैं। केदारनाथ के पैदल कांवड़ यात्रा मार्ग में पड़ने वाला मासरताल भी एक ऐसा ही खूबसूरत स्थल है। यहां पर थोड़ी ही दूरी पर 2 ताल मौजूद है और दोनों का रंग अलग है। एक का रंग हरा है तो दूसरे का रंग मटमैला है। इस जगह को पर्यटन के नक्शे पर लाने के लिए यहां के लोगों ने कई बार यात्रा भी निकाली लेकिन अभी तक कुछ नहीं किया जा सका है।

गौरतलब है कि केदारनाथ पैदल कांवड़ यात्रा के मार्ग में पड़ने वाले इन दोनों तालों में से एक की लंबाई करीब 300 मीटर है तो वहीं दूसरे की लंबाई 250 मीटर है। अभी इनकी गहराई के बारे में पता नहीं लग पाया है। यहां आने वाले लोगों को यह बात हैरान करती है जहां इस रास्ते में पानी का कोई श्रोत नहीं है लेकिन यहां मौजूद 2 अलग-अलग रंगों के ताल उन्हें हैरान करता है।

ये भी पढ़ें - जिलाध्यक्ष की नियुक्ति पर फूटा कांग्रेस कार्यकर्ताओं का गुस्सा, 150 से ज्यादा ने थामा भाजपा का दामन


यहां बता दें कि मासरताल समुद्र तल से करीब 7 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है और बेहद ही खूबसूरत है। सड़क के रास्ते से करीब 9 किलोमीटर पैदल चलने के बाद यहां पहुंचा जा सकता है। यहां पहुंचकर पर्यटक प्रकृति के अद्भुत नजारे को देखकर रोमांचित हो उठते हैं। यहां पर काफी संख्या में पर्यटकों के अलावा ट्रैकर भी पहुंचते हैं। इन दोनों तालों के पानी का अलग रंग सैलानियों के लिए एक रहस्य बना हुआ है। 

गौर करने वाली बात है कि तालों सामने बर्फ से ढंकी पहाड़ी दिखाई देती है। यहां कुछ लोगों ने अपनी छानियां बनाई हुई हैं लेकिन सड़क से दूर होने की वजह से पर्यटन के लिहाज से इसे विकसित नहीं किया जा सका है। 

Todays Beets: