Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

किडनी रैकेट मामले में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, मास्टरमाइंड डाॅक्टर अमित पंचकुला से हुआ गिरफ्तार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किडनी रैकेट मामले में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, मास्टरमाइंड डाॅक्टर अमित पंचकुला से हुआ गिरफ्तार

देहरादून। किडनी ट्रांसप्लांट के गोरखधंधे वाले मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने किडनी रैकेट के मास्टर माइंड डाॅक्टर अमित राउत और उसके भाई जीवन को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने इन दोनों को हरियाणा के पंचकुला से गिरफ्तार कर लिया है। आपको बता दें कि अमित देहरादून स्थित गंगोत्री चेरिटेबल अस्पताल में किडनी की खरीद फरोख्त में वांटेड था। 24 सालों में वह 500 से ज्यादा किडनी ट्रांसप्लांट कर चुका है। उसके ज्यादातर ग्राहक विदेशी थे। डाॅक्टर अमित के इस गोरखधंधे में उसका बेटा डाॅक्टर अक्षय राउत भी साथ दे रहा था।

विदेशी नागरिकों की तलाश में जुटी पुलिस

गौरतलब है कि गंगोत्री चैरिटेबल अस्पताल में चलाए जा रहे इस गोरखधंधे का ज्यादातर शिकार विदेशी नागरिकों को बनाया जाता था। इसमें चार विदेशी नागरिकों की मौत भी हो चुकी है। यहां बता दें कि पुलिस ने उस एंबुलेंस के ड्राइवर से भी पूछताछ की थी जिसने आखिरी बार अमित को छोड़ा था। बता दें कि डाॅक्टर अमित के पास आयुर्वेद की डिग्री थी लेकिन वह धड़ल्ले से सर्जरी करता था। महज 3 महीने में ही उसने 50 लोगों का किडनी ट्रांसप्लांट कर दिया था। इस सिलसिले में वह कई बार वह जेल भी जा चुका है। इसका धंधा खाड़ी देशों तक फैला हुआ था। फिलहाल किडनी खरीदने के मामले में दून पुलिस को ओमान के उन 4 नागरिकों की भी तलाश है, जिन्होंने 28 अगस्त से 10 सितंबर के बीच यहां आकर किडनी ट्रांसप्लांट कराई थी।

ये भी पढ़ें - हाईकोर्ट ने सरकार को दिया बड़ा झटका, शिक्षा विभाग में बैकलाॅग को दो महीने में भरने के दिए आदेश


डाॅक्टर राजीव से मिलीभगत

आपको बता दें कि डाॅक्टर अमित और उसके भाई की गिरफ्तारी से उसके डाॅक्टर राजीव के साथ मिलीभगत का भी पता चल गया। नेचर विला स्थित दोनों के ठिकानों पर चार घंटे चली तलाशी के दौरान उत्तरांचल डेंटल कॉलेज और गंगोत्री चैरिटेबिल अस्पताल के बीच हुए लीज एग्रीमेंट के दस्तावेज, तीन बैंक अकाउंट समेत अमित पर दर्ज आधा दर्जन से अधिक मुकदमों से संबंधित कागजात मिले हैं। तलाशी के दौरान राजीव की पत्नी अनुपमा भी घर पर मौजूद थी।

 

Todays Beets: