Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

जनभागीदारी से दून होगा स्वच्छ और खूबसूरत, 19 मई से शुरू होगा ‘मिशन रिस्पना’

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जनभागीदारी से दून होगा स्वच्छ और खूबसूरत, 19 मई से शुरू होगा ‘मिशन रिस्पना’

देहरादून।  उत्तराखंड की राजधानी देहरादून को स्वच्छ और खूबसूरत बनाने के लिए सरकार की तरफ से एक अनोखी पहल की जा रही है। 19 मई से दून शहर के बीच बहने वाली रिस्पना नदी को पुनर्जीवित करने के लिए इसके उद्गम स्थल से आखिरी छोर तक वृक्षारोपण और साफ-सफाई का कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है। देहरादून के जिलाधिकारी एस ए मुरुगेशन ने बताया कि लंढौर से लेकर शिखर फाॅल तक और मोथोरावाला के पास संगम क्षेत्र- जहां रिस्पना और बिंदाल का संगम होता है, में लगभग 2 लाख पेड़ लगाए जाएंगे। जिलाधिकारी ने इसमें स्थानीय लोगों, एनजीओ, संस्थाओं और विद्यालयों से हिस्सा लेने का आह्वान किया है। सरकार के इस कार्यक्रम में सेना के जनअभियान, पुलिस तथा वन विभाग द्वारा भी मिशन रिस्पना में सहयोग करेंगे।

गौरतलब है कि वृक्षारोपण के कार्यक्रम को छोटे-छोटे ब्लाॅकों में बांटा गया है ताकि लोगों को परेशानियों का समाना न करना पड़े। हर ब्लाॅक 2500 वर्ग मीटर का है जिसमें 250 पौधे लगाए जाएंगे, यह दो चरणों में किया जाएगा। पहले चरण में शनिवार 19 मई, 2018 को गढ्ढे खोदे जाएंगे फिर दूसरे चरण में जुलाई 2018 के दूसरे हफ्ते में पौधे रोपे जाएंगे। मिशन रिस्पना को पूरी तरह से वाॅलेंटियर्स की मदद से पूरा किया जाएगा। 

ये भी पढ़ें -  देहरादून में यूपी के कब्जे वाली संपत्तियों की होगी नीलामी, दोनों राज्यों में रकम का होगा बंटवारा

यहां गौर करने वाली बात है कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र स्वयं मिशन रिस्पना की तैयारियों की माॅनिटरिंग कर रहे हैं। सीएम ने मिशन रिस्पना को जनअभियान बनाने की अपील की है। जिलाधिकारी ने बताया कि उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा अनुसंधान केन्द्र रिस्पना के थ्री डी माॅडलिंग पर कार्य कर रहा है। उत्तराखण्ड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड द्वारा भी रिस्पना नदी की साफ-सफाई पर नजर बनाए हुए है। प्रदूषण बोर्ड द्वारा सिविक बाॅडी के साथ मिलकर नालियों की ब्लाॅकिंग की जा रही है ताकि नदी में गंदगी को जाने से रोका जा सके। प्लास्टिक की बोतलों के निपटारे के लिए उत्तराखण्ड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड द्वारा बड़ी साॅफ्ट ड्रिंक कंपनियों से बात की जा रही है।    


दून के जिलाधिकारी ने कहा कि रिस्पना नदी को एक बार फिर से शहर की लाइफ लाइन बनाने की कवायद तेज कर दी गई है। उन्होंने इस कार्यक्रम को अंजाम तक पहंचाने के लिए शहर के लोगों से साथ देने की अपील की है। जिलाधिकारी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वृक्षारोपण से न सिर्फ आबो-हवा साफ होगी बल्कि भूजल स्तर में भी वृद्धि होगी। 

 

 

Todays Beets: