Friday, July 20, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

उत्तराखंड में करीब 3 हजार स्कूल होंगे बंद, शिक्षकों का भी होगा विलय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में करीब 3 हजार स्कूल होंगे बंद, शिक्षकों का भी होगा विलय

देहरादून। राज्य की शिक्षा व्यवस्था में बेहतरी लाने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने 10 और उससे कम छात्र संख्या वाले बेसिक और जूनियर स्कूलों के विलय को मंजूरी दे दी है। बता दें कि सरकार के इस फैसले के दायरे में करीब तीन हजार स्कूल आ रहे हैं। शिक्षा सचिव चंद्रशेखर भट्ट ने इसके आदेश जारी कर दिए हैं। 

जल्द होगा विलय 

यहां बता दें कि शिक्षा सचिव के आदेश के अनुसार 1 किलोमीटर के दायरे में आने वाले ऐसे सभी बेसिक स्कूलों को बंद कर उनका एक स्कूल में विलय किया जाएगा जबकि 3 किलोमीटर के दायरे में आने वाले जूनियर हाईस्कूलों के विलय को भी मंजूरी दे दी गई है। शिक्षा सचिव ने शिक्षा निदेशक को इस मामले में प्राथमिकता पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। सरकार इस व्यवस्था को जल्द से जल्द लागू करना चाहती है। 

ये भी पढ़ें - सचिवालय परिसर को गंदा करना पड़ सकता है महंगा, वसूला जाएगा जुर्माना


शिक्षकों का समायोजन 

आपको बंद होने वाले स्कूल भवनों का उपयोग अन्य सामाजिक कामों के लिए किया जाएगा। इसे पंचायत, खेल विभाग और ग्राम्य विकास विभाग को दिया जा सकता है। शिक्षा मंत्री का इस मामले को लेकर कहना है कि स्कूलों को बंद करने से शिक्षकों की क्षमताओं का और बेहतर उपयोग हो सकेगा। इस प्रक्रिया की जद में आने वाले करीब 4 हजार से ज्यादा शिक्षकों को भी विलय वाले स्कूलों में समायोजित किया जाएगा।  इससे विलय के बाद बनने वाले स्कूलों में पर्याप्त संसाधन और शिक्षक उपलब्ध हो जाएंगे। गौर करने वाली बात यह है कि राज्य में 10 या उससे कम छात्रों वाले प्राथमिक स्कूलों की संख्या 2500 के करीब है वहीं ऐसे जूनियर हाई स्कूलों की संख्या 500 से अधिक है। 

 

Todays Beets: