Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तराखंड के नौजवानों के लिए पैदा होंगे रोजगार के अवसर, माउंटेन रेजीमेंट की होगी स्थापना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के नौजवानों के लिए पैदा होंगे रोजगार के अवसर, माउंटेन रेजीमेंट की होगी स्थापना

देहरादून। चीन के साथ बढ़ते सीमा विवाद को देख ते हुए उत्तराखंड से लगने वाली सीमा पर भी सुरक्षा को कड़ी करने की कवायद तेज कर दी गई है। उत्तराखंड के दौरे पर गए सेनाध्यक्ष जनरल विपिन रावत ने कहा कि यहां ‘अनमैन्ड एरियल व्हीकल’(यूएवी) के जरिए सुरक्षा पर नजर रखी जाएगी। इसके साथ ही हैवी फायरिंग रेंज स्थापित करने के लिए जमीन की तलाश शुरू कर दी गई है। जनरल रावत ने पहाड़ी सीमा की रक्षा के लिए राज्य में ‘माउंटेन रेजीमेंट’ की स्थापना को भी जरूरी बताया है।

चीनी घुसपैठ को रोकने में कारगर

गौरतलब है कि चीन के साथ डोकलाम को लेकर विवाद इन दिनों काफी चर्चा में रहा है। हालांकि दोनों देशों ने बाद में उस क्षेत्र से अपनी-अपनी सेना को हटाने पर राजी हो गए थे। उत्तराखंड के बाराहोती इलाके में भी चीनी सेना आए दिए घुसपैठ करती रहती है। इसे देखते हुए थल सेनाध्यक्ष ने कहा कि उत्तराखंड की सरहद, देश की किसी भी अन्य सीमा से कम या ज्यादा संवेदनशील नहीं है। हमारा मकसद यह है देश की सभी सीमाएं सुरक्षित हों। चीन ने उत्तराखंड और नेपाल से लगने वाली सीमाओं पर सभी आधुनिक व्यवस्थाएं स्थापित कर चुका है जबकि हम अभी भी हिमालय की सुरक्षा में ही जुटे हैं।  ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में होगा फैशन फेस्टिवल का आयोजन, पहाड़ी परिधान, हस्तशिल्प और शिल्पकला को मिलेगी नई पहचान

आधुनिक हथियारों से होंगे लैस


आपको बता दें कि जनरल रावत ने राज्य में माउंटेन रेजीमेंट की स्थापना की बात भी कही है। उन्होंने कहा कि इसके लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। माउंटेन रेजीमंेट में ऐसे विशेषज्ञों की भर्ती की जाती है जो पहाड़ों की ऊंचाई वाले इलाके से शत्रू पर सीधे वार करने में माहिर होते हैं। इसके जवान अत्याधुनिक हथियारों से लैस होते हैं। बता दें कि इसमें उन्हीं जवानों को लिया जाता है जो लंबे वक्त तक पहाड़ी और बर्फीले इलाकों में रहने के अभ्यस्त होते हैं और इनको खास तरह की ट्रेनिंग दी जाती है। ये चीते की तरह फुर्तीले और सबसे कम वक्त में सबसे तेज तरीके से किसी भी आपरेशन को अंजाम देने में सक्षम होते हैं। अगर राज्य में माउंटने रेजीमेंट की स्थापना होती है तो प्रदेश के युवाओं के लिए रोजगार का एक बड़ा अवसर पैदा होगा।  

 

Todays Beets: