Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

एमएसबीवाई के तहत इलाज कराने वालों को बड़ा झटका, सेवा हुई बंद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एमएसबीवाई के तहत इलाज कराने वालों को बड़ा झटका, सेवा हुई बंद

हल्द्वानी। राज्य की स्थापना दिवस मनाने की खुशियों के बीच मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना (एमएसबीवाई)के तहत इलाज की सुविधा पाने वाले लोगों को एक बड़ा झटका लगा है। योजना का संचालन करने वाली बीमा कंपनी बजाज एलायंस ने विस्तारीकरण नहीं मिलने के कारण यह सुविधा बंद कर दी है। बीमा कंपनी बजाज एलायंस की थर्ड पार्टी कंपनियां मेडी असिस्ट और एमडी इंडिया ने उत्तराखंड के सभी सीएमओ और इस योजना के तहत इम्पैनल्ड 184 अस्पतालों के एमएस को ई-मेल भेजकर किसी भी मरीज को बीमा कार्ड पर इलाज की सुविधा देने से इनकार कर दिया है।

बढ़ेंगी परेशानियां

गौरतलब है कि उत्तराखंड में एमएसबीवाई के तहत 13 लाख 59 हजार 851 कार्ड सक्रिय थे और इसके जरिये करीब 40 लाख से अधिक लोगों को 1 लाख 75 हजार रुपये तक का मुफ्त इलाज मिल रहा था। अब कंपनी द्वारा इन कार्ड को निष्क्रिय करने के बाद लोगों को इलाज के लिए शुल्क देना होगा। ऐसे में मरीजों की परेशानियां काफी बढ़ जाएंगी।

ये भी पढ़ें - उपनल कर्मचारी की मौत पर रुड़की में हुआ बवाल, युवकों ने कमिश्नर की जमकर की धुनाई

गंभीर रोगियों को होगी दिक्कत


आपको बता दें कि राज्य में एमएसबीवाई की शुरुआत साल 2015 में की गई थी। इसके तहत 1206 सामान्य और 458 गंभीर रोगों के मुफ्त इलाज की सुविधा का प्रावधान है। गौरतलब है कि राज्य के 95 सरकारी और 88 निजी अस्पताल इसके तहत इम्पैनल्ड थे। यानी कि कार्डधारक इन अस्पतालों में मुफ्त में अपना इलाज करा सकते हैं। कैंसर, डायलिसिस और हृदय से जुड़े गंभीर रोग भी इस योजना के तहत आते थे। अब सेवा बंद होने से गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। 

विस्तारीकरण नहीं मिला

इस योजना का संचालन कर रही कंपनी ने अपनी वेबसाइट पर जानकारी दी है कि उन्हें विस्तारीकरण नहीं मिल पाया, जिसके चलते योजना बंद कर दी गई। राज्य सरकार से इस बारे में जो भी दिशानिर्देश मिलेंगे, उसी के अनुसार काम किया जाएगा। प्रदेशभर में 13.5 लाख बीमा कार्ड बंद हो गए हैं। 

Todays Beets: