Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

हाईकोर्ट ने प्रदेश के पुलिसकर्मियों को दी बड़ी राहत, सरकार को दिया 8 घंटे से ज्यादा काम न लेने का निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने प्रदेश के पुलिसकर्मियों को दी बड़ी राहत, सरकार को दिया 8 घंटे से ज्यादा काम न लेने का निर्देश

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने उत्तराखंड पुलिस को बड़ी राहत दी है। मंगलवार को एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार को इस बात के निर्देश दिए हैं कि वह पुलिसकर्मियों से 8 घंटे से ज्यादा की ड्यूटी ना ले। इसके साथ ही साल में 45 दिनों की अतिरिक्त सैलरी देनेे के भी निर्देश दिए हैं। बता दें कि अरुण कुमार भदौरिया नाम के अधिवक्ता ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि सरकार पुलिस कर्मियों से 12 से 14 घंटे काम ले रही है जिससे उनकी परेशानियां बढ़ रही हैं। 

गौरतलब है कि हरिद्वार के वकील अरुण कुमार भदौरिया ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि पुलिसकर्मियों से 10 से 15 घंटे की ड्यूटी ली जा रही है जिससे उनके सामने कठिन परिस्थिति खड़ी हो गई है। ऐसे में सरकार को उचित दिशा-निर्देश देने का अनुरोध किया गया था। 


ये भी पढ़ें - केदारनाथ में प्रसाद की थाली में चौलाई का लड्डू होना अनिवार्य, दुकानों में माल्टा और बुरांश का...

यहां बता दें कि वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा, न्यायमूर्ति शरद कुमार शर्मा की खंडपीठ ने मंगलवार को जनहित याचिका पर ऐतिहासिक फैसला देते हुए याचिका को निस्तारित कर दिया। कोर्ट ने राज्य पुलिस सुधार आयोग की सिफारिश पर पुलिस कल्याण के लिए तीन माह में कारपस फंड बनाने, आवासीय स्थिति में सुधार के लिए हाउसिंग स्कीम बनाने, हर पुलिसकर्मी को सेवा काल में तीन पदोन्नति के लिए पुलिस नियमावली में जरूरी संशोधन करने, अवकाश मामलों में उदार रवैया अपनाने, रिक्तियों को भरने के लिए विशेष चयन आयोग का गठन करने, हर पुलिस स्टेशन व पुलिस की हाउसिंग कालोनी में जिम व स्विमिंग पूल बनाने जैसे कई अहम दिशा-निर्देश राज्य सरकार को दिए हैं। अधिवक्ता शक्ति सिंह ने बताया कि कोर्ट के आदेश का अनुपालन राज्य सरकार के लिए बाध्यकारी है।

Todays Beets: