Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

विरोधियों को धराशायी करने वाली पिथौरागढ़ की बाॅक्सर हारी जिंदगी की जंग, जहरीला पदार्थ खाकर की खुदकुशी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विरोधियों को धराशायी करने वाली पिथौरागढ़ की बाॅक्सर हारी जिंदगी की जंग, जहरीला पदार्थ खाकर की खुदकुशी

पिथौरागढ़। बाॅक्सिंग रिंग में विरोधियों को धूल चटाने वाली पिथौरागढ़ की उभरती हुई मुक्केबाज गीतिका राठौर जिन्दगी की जंग हार गईं और जहरीला पदार्थ खाकर अपनी जान दे दी। बताया जा रहा है कि कुछ दिनों पहले देहरादून में ही एक मुकाबले के दौरान के उनका घुटना टूट गया था बाद में उसे प्रत्यारोपित भी कराया गया। सर्जरी के बाद गीतिका को अभ्यास करने के में काफी परेशानी आ रही थी और वह तनाव में थीं और इससे परेशान होकर उसने अपनी जीवनलीला ही समाप्त कर दी। गीतिका की आत्महत्या से पूरे बाॅक्सिंग फेडरेशन और खिलाड़ी हैरान हैं।

गौरतलब है कि गीतिका मूल रूप से पिथौरागढ़ के मुंगरौली इलाके की रहने वाली थीं और इंटर की छात्रा थीं। गीतिका के पिता हुकुम सिंह राठौर ने उसने बॉक्सिंग में राज्य का प्रतिनिधित्व भी किया था। अपनी बीमारी के चलते गीतिका पिछले कुद समय से काफी अवासद में थीं और इससे परेशान होकर ही उसने आत्महत्या कर ली। बता दें कि गीतिका के पिता डिग्री कॉलेज मुवानी में चौकीदार के पद पर तैनात हैं। जहरीला पदार्थ खाने के बाद उसे गौचर के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से उसे हायर सेंटर रेफर कर दिया गया जहां डाॅक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घर की बड़ी बेटी की आत्महत्या से पूरे घर में मातम का माहौल है।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में बढ़ती नशाखोरी पर हाईकोर्ट सख्त, 20 जुलाई को नारकोटिक्स ब्यूरो के ड्रग कंट्रोलर क...


यहां बता दें कि गीतिका ने 2016 में जनवरी और अप्रैल में राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में राज्य का प्रतिनिधित्व किया था। इसके पहले गीतिका राठौर ने साल 2015 में देहरादून में आयोजित राज्य स्तरीय बाक्सिंग प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता था। घुटने की सर्जरी के बाद वह लगातार अवसाद में थी। स्थानीय लोगों का कहना है कि गीतिका थल-मुवानी क्षेत्र की एक होनहार बाॅक्सर थी।  जिला स्तर पर बेहतरीन प्रदर्शन करने के बाद उसका चयन राज्य स्तर की प्रतियोगिता के लिए हुआ था।

Todays Beets: