Sunday, May 27, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

एनजीटी के मानकों को पूरा नहीं करने वाली 366 औद्योगिक इकाइयां होंगी बंद, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जारी किया नोटिस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एनजीटी के मानकों को पूरा नहीं करने वाली 366 औद्योगिक इकाइयां होंगी बंद, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जारी किया नोटिस

हरिद्वार। हरिद्वार में चल रहे सैकड़ों अवैध कारखानों को बंद करने का नोटिस जारी किया गया है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने मानकों को पूरा नहीं करने वाले करीब 366 कारखानों को उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कारण बताओ नोटिस जारी कर दिए हैं। बंदी की कार्रवाई के लिए अंतिम अनुमति के लिए बोर्ड के चेयरमैन के पास फाइल भेज दी गई है। अनुमति मिलते ही बंदी की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। ऐसे मंे हजारों लोगों की नौकरियां जाने का अंदेशा है। बताया जा रहा है कि इस नोटिस के बाद कारखाना मालिकों ने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत से मदद की गुहार लगाई है। 

गौरतलब है कि हरिद्वार जिले में बड़ी संख्या में चल रही औद्योगिक इकाइयां प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों का पालन नहीं कर रही हैं। पिछले महीने कराए गए एक सर्वे में पता चला कि सिडकुल, रुड़की, भगवानपुर, बहादराबाद में करीब 366 इकाइयां ऐसी हैं जो प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों को पूरा नहीं करते हैं। इसके बाद एनजीटी ने इन्हें बंद करने के आदेश दिए हैं। 

ये भी पढ़ें - टिहरी झील में 4 करोड़ की ‘फ्लोटिंग बोट’ पर शुरू हुई उत्तराखंड कैबिनेट की बैठक, कई परियोजनाओं क...

एनजीटी की तरफ से आदेश जारी होने के बाद क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से इन सभी इकाइयों को कारण बताओ नोटिस जारी करने दिए गए हैं। बोर्ड के सदस्य सचिव एसपी सिंह सुबुद्धि ने बताया कि सभी इकाइयों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इन इकाइयों को बंद करने की कार्यवाही शुरू करने की फाइल अपर सचिव के पास भेज दी गई है, मंजूरी मिलते ही इकाइयों को बंद करने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। इन इकाइयों में प्रदूषण नियंत्रण के लिए अपने यहां शोधन यंत्र नहीं लगाने और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में पंजीकरण नहीं कराने का भी आरोप है। 


हजारों होंगे बेरोजगार

अगर इन औद्योगिक इकाइयों के खिलाफ बंदी की कार्रवाई की जाती है तो यहां काम करने वाले करीब 10 हजार से ज्यादा मजदूरों का भविष्य भी अंधकारमय हो जाएगा। बता दें कि सिडकुल में ज्यादातर कर्मचारी ठेके पर काम कर रहे हैं ऐसे में इकाइयों के बंद होने से इनकी नौकरी खत्म होना तय है। एनजीटी के आदेश के बाद फैक्ट्री मालिकों ने सीएम त्रिवेन्द्र रावत से मिलकर मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने दावा किया कि सीएम ने उन्हें आश्वासन दिया है कि किसी भी फैक्ट्री को बंद नहीं होने दिया जाएगा। 

 

Todays Beets: