Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

 तबादला एक्ट पर विभागों में तालमेल की कमी, सुगम-दुर्गम तय करने की प्रक्रिया में मतभेद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 तबादला एक्ट पर विभागों में तालमेल की कमी, सुगम-दुर्गम तय करने की प्रक्रिया में मतभेद

देहरादून। राज्य में सरकारी नीतियों को लागू करने को लेकर विभागों के बीच आपसी तालमेल में कमी साफ दिख रही है। इस सत्र से लागू होने वाले तबादला एक्ट पर भी ऐसा ही नजर आ रहा है। यहां हर विभाग ने अपने-अपने सुगम-दुर्गम स्थान निश्चित कर लिए हैं। जिन स्थानों के एक विभाग ने सुगम में दिखाया है उसी स्थान को दूसरे विभाग ने दुर्गम में दिखा दिया है। ऐसे में इस मनमाने सुगम-दुर्गम निर्धारण से विवाद की नौबत पैदा हो गई है। मामला सामने आने के बाद शहरी विकास मंत्री और सरकारी प्रवक्ता मदन कौशिक सभी विभागों के आकार और क्षेत्र का हवाला दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें - एसआईटी करेगी प्रदेश में हुए छात्रवृत्ति घोटाले की जांच, सरकार ने दिए आदेश 

गौरतलब है कि राज्य कर विभाग ने विकासनगर, मसूरी, ऋषिकेश, कुल्हाल, कोटद्वार, श्रीनगर, रामनगर, नैनीताल, टनकपुर, अल्मोड़ा को दुर्गम माना है जबकि लोक निर्माण विभाग ने अल्मोड़ा और श्रीनगर को सुगम माना है। लोक निर्माण विभाग ने मंडल मुख्यालय पौड़ी को दुर्गम और श्रीनगर को सुगम माना है। 


वहीं स्वास्थ्य विभाग ने अल्मोड़ा और कोटद्वार को सुगम, मसूरी और श्रीनगर को दुर्गम में रखा है। हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर जिले को स्वास्थ्य, उच्च शिक्षा और विद्यालयी शिक्षा विभाग ने सुगम माना जबकि दून व नैनीताल के केवल मैदानी क्षेत्रों को ही सुगम की श्रेणी में रखा है। यहां बता दें कि विभागों द्वारा सुगम-दुर्गम के निर्धारण पर लोक निर्माण विभाग के डिप्लोमा इंजीनियर संघ और मिनिस्टीरियल संघ ने ने आपत्ति जताई है। इनका कहना है कि पौड़ी जब दुर्गम इलाके में शामिल है तो श्रीनगर सुगम कैसे हो सकता है?

यहां बता दें कि अब इस विवाद पर सरकारी प्रवक्ता मदन कौशिक का कहना है कि हर विभाग के क्षेत्र और आकार अलग-अलग हैं इसके बावजूद अगर कोई विरोध है तो उसका निदान किया जाएगा।

Todays Beets: