Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

अब भारत और नेपाल मिलकर करेंगे उत्तराखंड के बाघों का संरक्षण, खाका तैयार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब भारत और नेपाल मिलकर करेंगे उत्तराखंड के बाघों का संरक्षण, खाका तैयार

देहरादून। उत्तराखंड के जंगलों में फैले बाघों का संरक्षण अब ज्यादा बेहतर तरीके से संभव हो पाएगा। इसके लिए भारत और नेपाल दोनों ने एक साझा खाका तैयार किया है। बताया जा रहा है कि दोनों देश मिलकर पहले राज्य के नंधौर टाईगर रिजर्व के बाघों की रक्षा का काम किया जाएगा। ऐसे में पशु तस्कर वारदात को अंजाम देकर दूसरे देश में छिप नहीं सकेंगे। 

गौरतलब है कि जियोलॉजिकल सोसायटी ऑफ लंदन (जेडएसएल) के बैनर तले वानिकी प्रशिक्षण अकादमी (एफटीआई) हल्द्वानी में दोनों देशों के वन अधिकारियों और एसएसबी के अधिकारियों की संयुक्त बैठक में बाघों के संरक्षण के लिए दोनों देशों की संयुक्त योजना का खाका तैयार किया गया है। बातचीत में नेपाल के शुक्ला फाटा, बरदिया, बांके नेशनल पार्क से सटी नंधौर सेंचुरी, तराई पूर्वी के जंगल में वन्य जीवों की आवाजाही और संरक्षण, तस्करी की रोकथाम को लेकर विस्तार से चर्चा हुई। 

यह है योजना

 -इंडो-नेपाल कोऑर्डिनेशन के नाम से दोनों देशों के वन अधिकारियों का व्हाट्सएप ग्रुप बना। इसमें वन्य जीवों के शिकार, तस्करी, वन्य जीवों की आवाजाही की सूचनाएं दी जाएंगी। 

-भारत से हल्द्वानी वन प्रभाग के डीएफओ डॉ. चंद्रशेखर सनवाल नोडल अधिकारी नामित।

-महीने में 2 बार दोनों देशों के अधिकारी सीमा पर संयुक्त गश्त करेंगे। इसमें एसएसबी शामिल होगी।

-बूम ब्रह्मदेव कॉरिडोर के लिए सर्वे किया जाएगा।


-सड़क और ट्रेन हादसों को रोकने को दोनों देश एक दूसरे की नई तकनीकी को साझा करेंगे।

-हर दो-तीन माह में ट्रांस बाउंड्री की बैठक होगी। अब जुलाई-अगस्त में भारत के अधिकारी नेपाल दौरा करेंगे

-दोनों देशों के फील्ड स्टाफ रेंजर, वन दरोगा, गार्ड की भी संयुक्त बैठक होगी

ये भी पढ़ें - रुद्रपुर में बच्चों का विवाद हुआ खूनी संघर्ष में तब्दील, 10 लोग घायल, पुलिस जांच में जुटी

एसएसबी के कमांडेंट ने कहा कि भारत नेपाल सीमा पर आवाजाही का वैध रास्ता एकमात्र बनबसा है। एसएसबी बॉर्डर पर गश्त के दौरान अक्सर मानव, हथियार, नशीले पदार्थ, वन उपज की तस्करी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करती है। यदि वन अफसर संयुक्त गश्त करना चाहते है तो उनका सहयोग किया जाएगा।

 

Todays Beets: