Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

राज्य की गरीब और असहाय महिलाएं भी कर सकेंगी अपना रोजगार, महज 1 फीसदी ब्याज पर मिलेगा ऋण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य की गरीब और असहाय महिलाएं भी कर सकेंगी अपना रोजगार, महज 1 फीसदी ब्याज पर मिलेगा ऋण

देहरादून। राज्य सरकार ने बुधवार को टिहरी झील में हुई कैबिनेट मीटिंग में प्रदेश की गरीब और असहाय महिलाओं को भी बड़ी राहत दी गई है। ऐसी महिलाओं को सिर्फ 1 फीसदी ब्याज पर 1 लाख रुपये तक का लोन देगी ताकि वह अपना रोजगार शुरू कर सके। कैबिनेट की बैठक में इस बात का निर्णय लिया गया कि ऋण सिर्फ उन महिलाओं को ही दिया जाएगा जो राजकीय पेंशन का लाभ नहीं ले रही होंगी।

बता दें कि सरकार द्वारा महिलाओं को स्वरोजगार योजना के तहत महिलाओं को सिलाई प्रशिक्षण, कुक्कुट पालन, मौन पालन समेत कई अन्य कार्यों के लिए ऋण उपलब्ध कराएगी। यह ऋण जिला सहकारी बैंकों को माध्यम से दिया जाएगा। कैबिनेट के फैसले की बड़ी बात यह रही कि दीन दयाल सामाजिक सुरक्षा कोष योजना में किन्नरों को भी शामिल किया गया है। प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में हुए निर्णय के मुताबिक, किन्नर श्रेणी को भी सामाजिक सुरक्षा कोष से एक फीसदी की दर से 1 लाख रुपये तक का ऋण मिल सकेगा। बता दें कि इस कोष का संचालन जनपद स्तर पर बनी कमेटी करती है और मुख्य विकास अधिकारी कमेटी के अध्यक्ष होते हैं।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड की ‘फ्लोटिंग बोट’ कैबिनेट ने लिए कई अहम फैसले, पर्यटन को मिलेगा उद्योग का दर्जा


यहां बता दें कि राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पहली बार टिहरी झील में कैबिनेट बैठक का आयोजन किया गया था। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने कहा कि झील में बैठक करने का मकसद टिहरी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक नई पहचान दिलाना भी है।

 

Todays Beets: