Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

शिक्षा विभाग में नहीं होगी काउंसलिंग, विकल्प और वरिष्ठता के आधार पर मिलेगी नियुक्ति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षा विभाग में नहीं होगी काउंसलिंग, विकल्प और वरिष्ठता के आधार पर मिलेगी नियुक्ति

देहरादून। राज्य के शिक्षा विभाग ने शिक्षकों और कर्मचारियों को बड़ी राहत दी है। विभाग ने इनके स्थानांतरण, नियुक्ति और पदोन्नति के लिए होने वाली काउंसलिंग की प्रक्रिया को खत्म कर दिया गया है। अब इन्हें विकल्प और वरिष्ठता के आधार पर ही तैनाती दी जाएगी। सरकार की ओर से इसके लिए शासनादेश जारी कर दिया गया है। इस आदेश को जनवरी 2018 से प्रदेश के सभी कार्यालयों और विद्यालयों में लागू किया गया है।

गौरतलब है कि शिक्षकों और कर्मचारियों के स्थानांतरण-पदोन्नति आदि में काउंसिलिंग के माध्यम से पदों को भरने का प्रावधान था। शासन की ओर से शुरू की यह व्यवस्था पिछले 2 सालों से चल रही है। अब प्रदेश सरकार की ओर से लोकसेवकों के लिए वार्षिक स्थानांतरण अधिनियम 2017 लागू कर दिया गया है। इस अधिनियम के आधार पर अब काउंसलिंग की व्यवस्था को खत्म कर वरिष्ठता और विकल्प के जरिए पदोन्नति और स्थानांतरण का प्रावधान किया गया है।

ये भी पढ़ें - बाड़ाहोती में एक बार घुसा ड्रैगन, चरवाहों को वापस जाने का किया इशारा


यहां बता दें कि यह व्यवस्था जनवरी 2018 से सभी शासकीय कार्यालय तथा विद्यालयों में लागू मानी गई है। शिक्षा सचिव डॉ.भूपिंदर कौर औलख ने नियुक्ति, पदोन्नति तथा स्थानांतरण प्रक्रिया में पहले से चली आ रही काउंसिलिंग की व्यवस्था को समाप्त करने के आदेश कर दिए हैं। इसके साथ ही नए अधिनियम के अनुसार पदोन्नति, नियुक्ति और स्थानांतरण के लिए नया शासनादेश जारी कर यिा गया है। 

 

Todays Beets: