Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

पढ़ाने से जी चुराने वाले शिक्षक हो जाएं सावधान, अब नहीं मिलेगी प्रतिनियुक्ति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पढ़ाने से जी चुराने वाले शिक्षक हो जाएं सावधान, अब नहीं मिलेगी प्रतिनियुक्ति

देहरादून। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि पढ़ाई से जी चुराने वाले शिक्षक अपनी प्रतिनियुक्ति किसी दूसरे विभाग में करा लेते हैं। ऐसा करने वाले शिक्षक अब सावधान हो जाएं, शिक्षकों को प्रतिनियुक्ति नहीं दी जाएगी। ऐसे में शिक्षा विभाग ने अब इस तरह की प्रतिनियुक्ति को ग्रीन सिग्नल देने पर रोक लगा दी है। आंदोलनकारी शिक्षकों पर भी सरकार ने सख्त रुख अपनाया है।

गौरतलब है कि निदेशालय से आई 7 शिक्षकों की सिफारिश को भी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने निरस्त कर दिया है। शिक्षा मंत्री का कहना है कि राज्य के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भविष्य में इस प्रकार की संस्तुतियां किसी भी सूरत में न की जाएं। स्कूलों में शिक्षकों की कमी को देखते हुए शिक्षकों की प्रतिनियुक्त पर लगभग पूरी तरह से रोक रहेगी।

ये भी पढ़ें - आपदा प्रभावित लोगों को सीएम ने दी बड़ी राहत, मिलेंगे अतिरिक्त 1 लाख रुपये  


यहां बता दें कि प्रदेश में शिक्षा का नया सत्र शुरू हो चुका है और शिक्षक अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। अब हाईकोर्ट ने हड़ताली शिक्षकों पर सख्त रुख अपनाते हुए सरकार से जवाब मांगा है। शिक्षा मंत्री शिक्षकों को पहले ही इस बात का अश्वासन दे चुके हैं कि सरकार उनकी जायज मांगों को लेकर गंभीर है ऐसे में उन्हें सरकार के खिलाफ नारे लगाने के बजाय शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर करने पर ध्यान देना चाहिए। 

Todays Beets: