Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

पढ़ाने से जी चुराने वाले शिक्षक हो जाएं सावधान, अब नहीं मिलेगी प्रतिनियुक्ति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पढ़ाने से जी चुराने वाले शिक्षक हो जाएं सावधान, अब नहीं मिलेगी प्रतिनियुक्ति

देहरादून। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि पढ़ाई से जी चुराने वाले शिक्षक अपनी प्रतिनियुक्ति किसी दूसरे विभाग में करा लेते हैं। ऐसा करने वाले शिक्षक अब सावधान हो जाएं, शिक्षकों को प्रतिनियुक्ति नहीं दी जाएगी। ऐसे में शिक्षा विभाग ने अब इस तरह की प्रतिनियुक्ति को ग्रीन सिग्नल देने पर रोक लगा दी है। आंदोलनकारी शिक्षकों पर भी सरकार ने सख्त रुख अपनाया है।

गौरतलब है कि निदेशालय से आई 7 शिक्षकों की सिफारिश को भी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने निरस्त कर दिया है। शिक्षा मंत्री का कहना है कि राज्य के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भविष्य में इस प्रकार की संस्तुतियां किसी भी सूरत में न की जाएं। स्कूलों में शिक्षकों की कमी को देखते हुए शिक्षकों की प्रतिनियुक्त पर लगभग पूरी तरह से रोक रहेगी।

ये भी पढ़ें - आपदा प्रभावित लोगों को सीएम ने दी बड़ी राहत, मिलेंगे अतिरिक्त 1 लाख रुपये  


यहां बता दें कि प्रदेश में शिक्षा का नया सत्र शुरू हो चुका है और शिक्षक अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। अब हाईकोर्ट ने हड़ताली शिक्षकों पर सख्त रुख अपनाते हुए सरकार से जवाब मांगा है। शिक्षा मंत्री शिक्षकों को पहले ही इस बात का अश्वासन दे चुके हैं कि सरकार उनकी जायज मांगों को लेकर गंभीर है ऐसे में उन्हें सरकार के खिलाफ नारे लगाने के बजाय शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर करने पर ध्यान देना चाहिए। 

Todays Beets: