Friday, December 14, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

बदलते मौसम ने स्वास्थ्य विभाग की बढ़ाई चिंता, ऋषिकेश में बढ़ रहे डेंगू के मरीज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बदलते मौसम ने स्वास्थ्य विभाग की बढ़ाई चिंता, ऋषिकेश में बढ़ रहे डेंगू के मरीज

देहरादून। बदलते मौसम के बीच उत्तराखंड में डेंगू भी अपने पैर पसार रहा है। स्वास्थ्य विभाग के इसे रोकने के तमाम दावे खोखले साबित हो रहे हैं। ताजा खबरों के अनुसार, ऋषिकेश और आसपास इलाकों में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। शिवपुरी रेंज की वनक्षेत्राधिकारी और ढालवाला के चैकी प्रभारी समेत चार लोग इसकी चपेट में आ गए हैं। इन सभी लोगों को शहर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गौर करने वाली बात है कि पिछले दिनों हरिद्वार में भी डेंगू के मरीजों की संख्या की पुष्टि हुई थी। 

गौरतलब है कि ऋषिकेश में डेंगू के मरीजों की संख्या 28 से बढ़कर 32 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के तमाम इंतजामों के बावजूद ऋषिकेश क्षेत्र में डेंगू का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। विभाग इस बीमारी को फैलने से रोकने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुआ है। हालांकि ऋषिकेश नगर निगम और मुनिकीरेती नगरपालिका में नियमित फाॅगिंग और कीटनाशक का छिड़काव का दावा कर रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - गंगा को प्रदूषण से मुक्त कराने के प्रयास को लगा बड़ा धक्का, आमरण अनशन पर बैठे स्वामी का अस्पता...


यहां बता दें कि मुनिकीरेती क्षेत्र में शिवपुरी रेंज की वनक्षेत्राधिकारी, ढालवाला चैकी प्रभारी और कैलासगेट चैकी में तैनात दो पुलिसकर्मियों के डेंगू से पीड़ित हैं। शहर में एसपीएस राजकीय चिकित्सालय में डेंगू मरीजों की जांच के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। खबरों के अनुसार मरीजों के नमने की जांच की व्यवस्था ऋषिकेश में नहीं है और इसे देहरादून भेजा जाता है जिसकी रिपोर्ट आने में काफी समय लग जाता है। नतीजतन लोगों को प्राईवेट अस्पतालों का रुख करना पड़ता है। सरकारी अस्पताल में पर्याप्त फिजिशियन नहीं हैं।

Todays Beets: