Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

बदलते मौसम ने स्वास्थ्य विभाग की बढ़ाई चिंता, ऋषिकेश में बढ़ रहे डेंगू के मरीज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बदलते मौसम ने स्वास्थ्य विभाग की बढ़ाई चिंता, ऋषिकेश में बढ़ रहे डेंगू के मरीज

देहरादून। बदलते मौसम के बीच उत्तराखंड में डेंगू भी अपने पैर पसार रहा है। स्वास्थ्य विभाग के इसे रोकने के तमाम दावे खोखले साबित हो रहे हैं। ताजा खबरों के अनुसार, ऋषिकेश और आसपास इलाकों में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। शिवपुरी रेंज की वनक्षेत्राधिकारी और ढालवाला के चैकी प्रभारी समेत चार लोग इसकी चपेट में आ गए हैं। इन सभी लोगों को शहर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गौर करने वाली बात है कि पिछले दिनों हरिद्वार में भी डेंगू के मरीजों की संख्या की पुष्टि हुई थी। 

गौरतलब है कि ऋषिकेश में डेंगू के मरीजों की संख्या 28 से बढ़कर 32 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के तमाम इंतजामों के बावजूद ऋषिकेश क्षेत्र में डेंगू का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। विभाग इस बीमारी को फैलने से रोकने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुआ है। हालांकि ऋषिकेश नगर निगम और मुनिकीरेती नगरपालिका में नियमित फाॅगिंग और कीटनाशक का छिड़काव का दावा कर रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - गंगा को प्रदूषण से मुक्त कराने के प्रयास को लगा बड़ा धक्का, आमरण अनशन पर बैठे स्वामी का अस्पता...


यहां बता दें कि मुनिकीरेती क्षेत्र में शिवपुरी रेंज की वनक्षेत्राधिकारी, ढालवाला चैकी प्रभारी और कैलासगेट चैकी में तैनात दो पुलिसकर्मियों के डेंगू से पीड़ित हैं। शहर में एसपीएस राजकीय चिकित्सालय में डेंगू मरीजों की जांच के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। खबरों के अनुसार मरीजों के नमने की जांच की व्यवस्था ऋषिकेश में नहीं है और इसे देहरादून भेजा जाता है जिसकी रिपोर्ट आने में काफी समय लग जाता है। नतीजतन लोगों को प्राईवेट अस्पतालों का रुख करना पड़ता है। सरकारी अस्पताल में पर्याप्त फिजिशियन नहीं हैं।

Todays Beets: