Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

एनएच-74 के बाद प्रदेश में एक और सड़क घोटाला आया सामने, लेखा समिति ने की जांच की सिफारिश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एनएच-74 के बाद प्रदेश में एक और सड़क घोटाला आया सामने, लेखा समिति ने की जांच की सिफारिश

देहरादून। उत्तराखंड में एनएच-74 मुआवजा घोटाला के बाद एक और सड़क घोटाला सामने आया है। इस बार कलियर विधानसभा क्षेत्र में बनाई गई सड़क में लोकनिर्माण विभाग के इंजीनियरों के द्वारा 2 करोड़ रुपये का घोटाला किया गया है। अब विधान सभा की लोक लेखा समिति ने इस मामले में जांच की सिफारिश की है। बता दें कि ऊधमसिंह नगर में भी राष्ट्रीय राजमार्ग-74 को चौड़ा करने के लिए ली गई जमीन के मुआवजे में बड़ा घोटाला हो चुका है जिसकी जांच चल रही है।

डीपीआर में गड़बड़ी

गौरतलब है कि पिरान कलियर में साल 2015 में एशियन डेवलपमेंट बैंक की मदद से सड़क का निर्माण कराया गया था। सड़क निर्माण में इंजीनियरों ने सरकार के आंखों में धूल झोंकने के लिए डीपीआर में गड़बड़ी कर दी। उन्होंने डीपीआर तो घन मीटर में बनवाई लेकिन भुगतान वर्ग मीटर में कर दिया। इंजीनियरों की मिलीभगत से हुए फर्जीवाड़े के चलते ठेकेदार को 2 करोड़ चार लाख का अतिरिक्त भुगतान किया गया। 

ये भी पढ़ें - चारधाम यात्रा पर जाने वालों का अब एक ही बार होगा पंजीकरण, मिलेंगे स्मार्ट कार्ड


सेवानिवृत्त अधिकारियों की परेशानी बढ़ेगी

खबरों के अनुसार कांग्रेस विधायक काजी निजामुद्दीन की अध्यक्षता में गठित विधान सभा की लोक लेखा समिति में जब इस मामले पर चर्चा की गई तो विधायकों ने हैरत जताई और आरोपी इंजीनियरों के खिलाफ कार्रवाई न होने पर सख्त नाराजगी जताई। लोक लेखा समिति ने इस पूरे प्रकरण की जांच की सिफारिश की है। यहां गौर करने वाली बात है कि एडीबी के जिस प्रोजेक्ट निदेशक चीफ इंजीनियर की देखरेख में इस सड़क का निर्माण हुआ था वे अब सेवानिवृत्त हो चुके हैं। सरकार ने अब इसकी जांच कराने का फैसला ले लिया है ऐसे में इन अफसरों की परेशानियां बढ़ सकती हैं। 

 

Todays Beets: