Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

एनएच-74 के बाद प्रदेश में एक और सड़क घोटाला आया सामने, लेखा समिति ने की जांच की सिफारिश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एनएच-74 के बाद प्रदेश में एक और सड़क घोटाला आया सामने, लेखा समिति ने की जांच की सिफारिश

देहरादून। उत्तराखंड में एनएच-74 मुआवजा घोटाला के बाद एक और सड़क घोटाला सामने आया है। इस बार कलियर विधानसभा क्षेत्र में बनाई गई सड़क में लोकनिर्माण विभाग के इंजीनियरों के द्वारा 2 करोड़ रुपये का घोटाला किया गया है। अब विधान सभा की लोक लेखा समिति ने इस मामले में जांच की सिफारिश की है। बता दें कि ऊधमसिंह नगर में भी राष्ट्रीय राजमार्ग-74 को चौड़ा करने के लिए ली गई जमीन के मुआवजे में बड़ा घोटाला हो चुका है जिसकी जांच चल रही है।

डीपीआर में गड़बड़ी

गौरतलब है कि पिरान कलियर में साल 2015 में एशियन डेवलपमेंट बैंक की मदद से सड़क का निर्माण कराया गया था। सड़क निर्माण में इंजीनियरों ने सरकार के आंखों में धूल झोंकने के लिए डीपीआर में गड़बड़ी कर दी। उन्होंने डीपीआर तो घन मीटर में बनवाई लेकिन भुगतान वर्ग मीटर में कर दिया। इंजीनियरों की मिलीभगत से हुए फर्जीवाड़े के चलते ठेकेदार को 2 करोड़ चार लाख का अतिरिक्त भुगतान किया गया। 

ये भी पढ़ें - चारधाम यात्रा पर जाने वालों का अब एक ही बार होगा पंजीकरण, मिलेंगे स्मार्ट कार्ड


सेवानिवृत्त अधिकारियों की परेशानी बढ़ेगी

खबरों के अनुसार कांग्रेस विधायक काजी निजामुद्दीन की अध्यक्षता में गठित विधान सभा की लोक लेखा समिति में जब इस मामले पर चर्चा की गई तो विधायकों ने हैरत जताई और आरोपी इंजीनियरों के खिलाफ कार्रवाई न होने पर सख्त नाराजगी जताई। लोक लेखा समिति ने इस पूरे प्रकरण की जांच की सिफारिश की है। यहां गौर करने वाली बात है कि एडीबी के जिस प्रोजेक्ट निदेशक चीफ इंजीनियर की देखरेख में इस सड़क का निर्माण हुआ था वे अब सेवानिवृत्त हो चुके हैं। सरकार ने अब इसकी जांच कराने का फैसला ले लिया है ऐसे में इन अफसरों की परेशानियां बढ़ सकती हैं। 

 

Todays Beets: