Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

गुरेज में उत्तराखंड के कोटद्वार का सपूत हुआ शहीद, आज पहुंचेगा पार्थिव शरीर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गुरेज में उत्तराखंड के कोटद्वार का सपूत हुआ शहीद, आज पहुंचेगा पार्थिव शरीर

देहरादून। देशरक्षा में उत्तराखंड के एक और नौजवान ने अपनी शहादत दी है। मंगलवार को जम्मू कश्मीर के गुरेज सेक्टर में आतंकी घुसपैठ को नाकाम करने मंे आतंकियों से लोहा लेते हुए 38वीं गढ़वाल राईफल्स के राईफलमैन मनदीप रावत शहीद हो गया। कोटद्वार के रहने वाले मनदीप सिंह रावत के घर पर जैसे ही इस बात की सूचना मिली वहां मातम पसर गया। मनदीप की सोमवार को ही आखिरी बार मां से बात हुई थी जिसमें जल्द ही छुट्टी पर आने की बात कही थी। बता दें कि इसी मुठभेड़ में मूल रूप से उत्तरकाशी के रहने वाले हमीर सिंह पोखरियाल ने भी अपनी शहादत दी है।

गौरतलब है कि सोमवार की देर रात से ही शुरू हुई मुठभेड़ में मंगलवार की सुबह सेना ने 4 आतंकियों को मार गिराने का दावा किया था। बड़ी बात यह है कि इस मुठभेड़ में सेना के 1 अफसर समेत 4 जवान भी शहीद हो गए थे। इन सभी जवानों को बुधवार को ही श्रद्धांजलि दी जाएगी। 

ये भी पढ़ें - गुरेज में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुआ ऋषिकेश का यह लाल, घर पर पसरा मातम


बता दें कि मनदीप सिंह रावत सेना के 38वीं राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात राइफलमैन के तौर पर गुरेज में तैनात थे। उनकी शहादत की खबर सुनते ही घर में कोहराम मच गया। उनके पिता बूथी सिंह भी सेना से ही सेवानिवृत्त हुए हैं। घर के बड़े बेटे मनदीप की शहादत पर उनके पिता को गर्व भी है। उनका कहना है कि बेटा आतंकवादियों से लोहा लेते हुए अपनी शहादत दी है। 

उत्तराखंड के 2 सपूतों की शहादत की खबर सुनने के बाद बड़ी संख्या में लोग श्रद्धांजलि देने के लिए उनके घरों पर पहुंच रहे हैं।  परिजनों से मिली जानकारी के अनुसार घरवाले मनदीप की शादी के लिए लड़की देख रहे थे लेकिन इसी बीच उसके शहीद होने की खबर उन पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। मनदीप का छोटा भाई भी सेना से ही जुड़ा हुआ है। सेना की ओर से शहीद का पार्थिव शरीर बुधवार तक कोटद्वार पहुंचने की जानकारी दी गई है। 

Todays Beets: