Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

देहरादून। उत्तराखंड के नौजवानों ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी बहादुरी के झंडे गाड़े हैं। अब इस फेहरिस्त में टिहरी के पंकज सेमवाल का नाम भी जुड़ गया है। पंकज की बहादुरी के चलते उनका चयन राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ है। यह पुरस्कार उन्हें नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रपति के हाथों दिया जाएगा।

कई अन्य आवेदकों में हुआ चयन

गौरतलब है कि राज्य बाल कल्याण परिषद से राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2017 के लिए भारतीय बाल कल्याण परिषद को आवेदन भेजे गए थे। इस आवदेन में ऊधमसिंह नगर की कनिका, टिहरी के पंकज, चमोली के ईश्वर सिंह के साथ यूएसनगर के अभय गुप्ता, अक्षय गुप्ता और युवराज चावला का नाम संयुक्त रूप से भेजा गया था। परिषद के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुशील चंद्र डोभाल ने बताया कि इनमें से पंकज के नाम का चयन किया गया है। 

ये भी पढ़ें - राज्य में तबादला एक्ट हुआ पास, अब नहीं चलेगी सिफारिश या रसूख, लापरवाही पर होगी कार्रवाई


गुलदार से बचाई जान

बता दें कि टिहरी के प्रतापनगर स्थित नारगढ़ निवासी पंकज सेमवाल की मां खेती कर परिवार चलाती हैं। 10 जुलाई 2016 को पंकज अपनी मां विमला देवी और भाई-बहनों के साथ घर की दूसरी मंजिल के बरामदे में सोया था। रात करीब 10  बजे एक गुलदार विमला देवी पर झपट पड़ा। मां की पुकार सुन नींद से जगे पंकज ने डंडे से गुलदार पर एक के बाद एक कई वार किए और किसी तरह मां की जान बचाई थी। 

 

Todays Beets: