Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

देहरादून। उत्तराखंड के नौजवानों ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी बहादुरी के झंडे गाड़े हैं। अब इस फेहरिस्त में टिहरी के पंकज सेमवाल का नाम भी जुड़ गया है। पंकज की बहादुरी के चलते उनका चयन राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ है। यह पुरस्कार उन्हें नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रपति के हाथों दिया जाएगा।

कई अन्य आवेदकों में हुआ चयन

गौरतलब है कि राज्य बाल कल्याण परिषद से राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2017 के लिए भारतीय बाल कल्याण परिषद को आवेदन भेजे गए थे। इस आवदेन में ऊधमसिंह नगर की कनिका, टिहरी के पंकज, चमोली के ईश्वर सिंह के साथ यूएसनगर के अभय गुप्ता, अक्षय गुप्ता और युवराज चावला का नाम संयुक्त रूप से भेजा गया था। परिषद के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुशील चंद्र डोभाल ने बताया कि इनमें से पंकज के नाम का चयन किया गया है। 

ये भी पढ़ें - राज्य में तबादला एक्ट हुआ पास, अब नहीं चलेगी सिफारिश या रसूख, लापरवाही पर होगी कार्रवाई


गुलदार से बचाई जान

बता दें कि टिहरी के प्रतापनगर स्थित नारगढ़ निवासी पंकज सेमवाल की मां खेती कर परिवार चलाती हैं। 10 जुलाई 2016 को पंकज अपनी मां विमला देवी और भाई-बहनों के साथ घर की दूसरी मंजिल के बरामदे में सोया था। रात करीब 10  बजे एक गुलदार विमला देवी पर झपट पड़ा। मां की पुकार सुन नींद से जगे पंकज ने डंडे से गुलदार पर एक के बाद एक कई वार किए और किसी तरह मां की जान बचाई थी। 

 

Todays Beets: