Wednesday, December 13, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

देहरादून। उत्तराखंड के नौजवानों ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी बहादुरी के झंडे गाड़े हैं। अब इस फेहरिस्त में टिहरी के पंकज सेमवाल का नाम भी जुड़ गया है। पंकज की बहादुरी के चलते उनका चयन राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ है। यह पुरस्कार उन्हें नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रपति के हाथों दिया जाएगा।

कई अन्य आवेदकों में हुआ चयन

गौरतलब है कि राज्य बाल कल्याण परिषद से राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2017 के लिए भारतीय बाल कल्याण परिषद को आवेदन भेजे गए थे। इस आवदेन में ऊधमसिंह नगर की कनिका, टिहरी के पंकज, चमोली के ईश्वर सिंह के साथ यूएसनगर के अभय गुप्ता, अक्षय गुप्ता और युवराज चावला का नाम संयुक्त रूप से भेजा गया था। परिषद के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुशील चंद्र डोभाल ने बताया कि इनमें से पंकज के नाम का चयन किया गया है। 

ये भी पढ़ें - राज्य में तबादला एक्ट हुआ पास, अब नहीं चलेगी सिफारिश या रसूख, लापरवाही पर होगी कार्रवाई


गुलदार से बचाई जान

बता दें कि टिहरी के प्रतापनगर स्थित नारगढ़ निवासी पंकज सेमवाल की मां खेती कर परिवार चलाती हैं। 10 जुलाई 2016 को पंकज अपनी मां विमला देवी और भाई-बहनों के साथ घर की दूसरी मंजिल के बरामदे में सोया था। रात करीब 10  बजे एक गुलदार विमला देवी पर झपट पड़ा। मां की पुकार सुन नींद से जगे पंकज ने डंडे से गुलदार पर एक के बाद एक कई वार किए और किसी तरह मां की जान बचाई थी। 

 

Todays Beets: