Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टिहरी के पंकज सेमवाल का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ चयन, 26 जनवरी को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

देहरादून। उत्तराखंड के नौजवानों ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी बहादुरी के झंडे गाड़े हैं। अब इस फेहरिस्त में टिहरी के पंकज सेमवाल का नाम भी जुड़ गया है। पंकज की बहादुरी के चलते उनका चयन राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए हुआ है। यह पुरस्कार उन्हें नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रपति के हाथों दिया जाएगा।

कई अन्य आवेदकों में हुआ चयन

गौरतलब है कि राज्य बाल कल्याण परिषद से राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2017 के लिए भारतीय बाल कल्याण परिषद को आवेदन भेजे गए थे। इस आवदेन में ऊधमसिंह नगर की कनिका, टिहरी के पंकज, चमोली के ईश्वर सिंह के साथ यूएसनगर के अभय गुप्ता, अक्षय गुप्ता और युवराज चावला का नाम संयुक्त रूप से भेजा गया था। परिषद के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुशील चंद्र डोभाल ने बताया कि इनमें से पंकज के नाम का चयन किया गया है। 

ये भी पढ़ें - राज्य में तबादला एक्ट हुआ पास, अब नहीं चलेगी सिफारिश या रसूख, लापरवाही पर होगी कार्रवाई


गुलदार से बचाई जान

बता दें कि टिहरी के प्रतापनगर स्थित नारगढ़ निवासी पंकज सेमवाल की मां खेती कर परिवार चलाती हैं। 10 जुलाई 2016 को पंकज अपनी मां विमला देवी और भाई-बहनों के साथ घर की दूसरी मंजिल के बरामदे में सोया था। रात करीब 10  बजे एक गुलदार विमला देवी पर झपट पड़ा। मां की पुकार सुन नींद से जगे पंकज ने डंडे से गुलदार पर एक के बाद एक कई वार किए और किसी तरह मां की जान बचाई थी। 

 

Todays Beets: