Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

हल्द्वानी में सालों से लोग पी रहे हैं मुफ्त का पानी, जल संस्थान का बकाया पहुंचा 22 करोड़

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हल्द्वानी में सालों से लोग पी रहे हैं मुफ्त का पानी, जल संस्थान का बकाया पहुंचा 22 करोड़

हल्द्वानी।  पेयजल की परेशानी से जूझ रहे उत्तराखंड के हल्द्वानी से एक चौंकाने वाली खबर  सामने आई है। एक आरटीआई में इस बात का खुलासा हुआ है कि हल्द्वानी के 14 हजार लोग पिछले 15 से 20 सालों से मुफ्त में पानी पी रहे हैं और इसके लिए कोई बिल नहीं चुका रहे हैं। अब यह बिल बढ़ते-बढ़ते 22 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है, बड़ी बात यह है कि जल संस्थान की ओर से इन लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। वहीं जिन लोगों के घरों में पानी की एक बूंद भी नहीं पहुंची है उन्हें लगातार बिल भेजे जा रहे हैं। 

गौरतलब है कि यह दावा तब किया जा रहा है जबकि जल संस्थान हर साल मार्च में बिल जमा नहीं करने वालों के कनेक्शन काटने की बात करता है। बड़ी बात यह है कि विभाग की जानकारी में होने के बाद भी प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश भाजपा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, राष्ट्रीय प्रतीक के गलत इस्तेमाल पर हो सकती है जेल


यहां बता दें कि हल्द्वानी के लोगों का यह बिल कोई 1 या 2 महीने में इतना नहीं पहुंचा लोगों ने सालों-साल बिना पैसे जमा किए मुफ्त में पानी का इस्तेमाल करते रहे। यहां बड़ा सवाल यह भी उठ रहा है कि जब विभाग का इतना पैसा बकाया है तो उसकी हालत कैसी होगी? जानकारी के अनुसार लोगों के ऊपर 1000 रुपये से लेकर 50 हजार रुपये तक का पानी बिल बकाया है। गौर करने वाली बात है कि सरकार को कर्मचारियों के वेतन और पेंशन भुगतान के लिए ऋण लेना पड़ रहा है और विभागीय कर्मचारी बकाए की वसूली तक नहीं कर पा रहे हैं।  

Todays Beets: