Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

किसानों की फसल बीमा रकम डकारने वाले शाखा प्रबंधक हुए गिरफ्तार, भेजा गया जेल 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किसानों की फसल बीमा रकम डकारने वाले शाखा प्रबंधक हुए गिरफ्तार, भेजा गया जेल 

टिहरी। किसानों के फसल बीमा की रकम डकारने वाले ब्रांच मैनेजर को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। प्रतापनगर ब्लॉक के एसबीआई शाखा माजफ में पूर्व में तैनात एक शाखा प्रबंधक ने फसल बीमा की 3 लाख 33 हजार रुपये की धनराशि गबन किया था। धोखाधड़ी करने वाला आरोपी बैंक मैनेजर एसबीआई बैंक शाखा मुजफ्फरनगर में तैनात था और पुलिस ने उसे मुजफ्फरनगर से ही गिरफ्तार किया है। 

किसानों को नहीं मिला पैसा 

गौरतलब है फसल बीमा की रकम के गबन का यह मामला साल 2009 से 2011 का है। उस वक्त शाखा प्रबंधक संजीव कुमार शर्मा भारतीय स्टेट बैंक की शाखा माजफ में शाखा प्रबंधक के पद पर तैनात था। इस दौरान सरकार की ओर से बैंक में किसानों को फसल बीमा बांटने के लिए 3 लाख 33 हजार 899 रुपये उपलब्ध कराए गए थे जिसे लाभार्थियों के बीच बांटा जाना था। 


ये भी पढ़ें - शिक्षा विभाग पढ़ाई के साथ छात्रों को करियर काउंसलिंग भी देगा, बस एक क्लिक पर मिलेगी जानकारी 

नए ब्रांच मैनेजर ने कराई जांच

आपको बता दें कि शाखा प्रबंधक संजीव कुमार ने इस पैसे को किसानों के बीच बांटने के बजाय दूसरे खातों में डाल दिए। इन खातों में कुछ खाते संजीव कुमार के पहचान वालों के ही थे। साल 2011 में संजीव कुमार का वहां से तबादला हो गया और उनकी जगह पर विमल राय ने प्रबंधक का पद संभाला तो खातों में धोखाधड़ी का मामला उजागर हुआ। उन्होंने मामले की जांच कराई और पूर्व प्रबंधक के खिलाफ राजस्व पुलिस में मुकदमा दर्ज करा दिया। मामला पुलिस में आने के बाद कोर्ट से वारंट जारी हुआ और मुजफ्फरनगर में एसबीआई शाखा रेलवे रोड में तैनात आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। ब्रांच मैनेजर के खिलाफ आईपीसी की धारा 409 व 420 में मुकदमा दर्ज है। 

Todays Beets: