Wednesday, September 26, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

सोशल मीडिया पर बस हादसे की फर्जी खबर डालना पूर्व कांग्रेसी नेता को पड़ा महंगा, पुलिस ने जारी किया कारण बताओ नोटिस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सोशल मीडिया पर बस हादसे की फर्जी खबर डालना पूर्व कांग्रेसी नेता को पड़ा महंगा, पुलिस ने जारी किया कारण बताओ नोटिस

देहरादून। सोशल मीडिया पर बस दुर्घटना में 6 लोगों के मारे जाने की खबर पोस्ट करना कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी जिलाध्यक्ष और एक महिला समेत 3 लोगों को काफी महंगा पड़ा है। पुलिस ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही 2 लोगों के द्वारा लिखित में माफी मांगने के बाद उनका चालान काटकर उन्हें छोड़ दिया गया। बता दें कि मंगलवार को सोशल मीडिया पर टनकपुर से लोहाघाट जा रही एक बस के अमोड़ी के पास खाई में गिरने एवं दुर्घटनाग्रस्त बस की फोटो वायरल हो गई थी। इस वायरल फोटो में लिखा था कि बस हादसे में 6 लोगों की मौत हो गई है।

गौरतलब है कि इस वायरल खबर के बारे में जानकारी मिलते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया और उस बस में सफर करने वाले परिजनों में भी अफरा-तफरी मच गई। हादसे के बाद परिजनों की जानकारी लेने के लिए लोग अस्पताल और पुलिस थानों में लगातार फोन करने लगे। कहीं से हादसे की पुष्टि नहीं होने पर पुलिस अधिकारियों ने वायरल खबर के झूठ होने की पुष्टि की। सीओ ने बताया कि वायरल फोटो नैनीताल जिले में पहले हुए बस हादसे की थी। 

ये भी पढ़ें - भारी बारिश ने देहरादून में 4 लोगों की ली जान, बागेश्वर में पहाड़ी दरकने से दबी कई गाड़ियां


यहां बता दें कि  डीएम डॉक्टर अहमद इकबाल के निर्देश पर पुलिस की आईटी सेल की जांच के बाद एसपी धीरेंद्र सिंह गुंज्याल ने खबर पोस्ट करने वाले लोहाघाट निवासी कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी जिलाध्यक्ष ओंकार सिंह धौनी, टनकपुर निवासी महिला लक्ष्मी वर्मा एवं चंद्रशेखर ओली को आईटी एक्ट के तहत नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। टनकपुर की रहने वाल लक्ष्मी और चंद्रशेखर ने इस बात को स्वीकार किया कि उन्होंने दूसरे नंबर से आए मैसेज को बिना देखे ही आगे फाॅरवर्ड कर दिया था। इन दोनों ने लोगों को हुई तकलीफ के लिए माफी मांगी है।

Todays Beets: