Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

उत्तराखंड में प्रदूषण फैलाने वाले 740 फैक्ट्रियों को नोटिस जारी, 30 दिनों के बाद होंगे सील

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में प्रदूषण फैलाने वाले 740 फैक्ट्रियों को नोटिस जारी, 30 दिनों के बाद होंगे सील

देहरादून। राज्य में प्रदूषण फैलाने वाले कारखानों और फैक्ट्रियों की खैर नहीं होगी।  उत्तराखंड प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से बिना अनुमति या लाईसेंस का नवीनीकरण कराए बगैर चलाए जा रहे 740 फैक्ट्रियों को नोटिस जारी कर दिया गया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव एसपी सुबुद्धि ने बताया कि फैक्ट्री संचालकों को नोटिस का जवाब देने के लिए 30 दिन का समय दिया गया है। इस तय समय सीमा के अंदर कारखानों की ओर से अगर जवाब नहीं दिया जाता है तो उसे सील करने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी।

गौरतलब है कि राज्य में बड़ी संख्या में ऐसी फैक्ट्रियां हैं जो प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से बिना अनुमति लिए धड़ल्ले से चलाए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि प्रदूषण फैलाने वाले कारखानों में से 60 ऊधमसिंह नगर और 680 हरिद्वार के सिडकुल रोशनाबाद, सिडकुल भगवानपुर व सिडकुल लक्सर की फैक्ट्रियां हैं। इनमें से ज्यादातर कारखाने ऐसे हैं जिन्होंने प्रदूषण बोर्ड मंे अपना पंजीकरण तक नहीं कराया है। 

ये भी पढ़ें - अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति पर मंत्री के दावे निकले खोखले, शासनादेश भी नहीं हुआ जारी

यहां बता दें कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के द्वारा लगातार छापेमारी करने के बाद भी कारखाने अपना पंजीकरण नहीं करा रहे हैं। कुछ ने पंजीकरण कराया हुआ है तो उसका नवीनीकरण नहीं करा रहे हैं। बताया जा रहा है कि हाईकोर्ट के आदेश पर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की टीम हरिद्वार समेत राज्य के सभी औद्योगिक क्षेत्रों में संचालित फैक्ट्रियों व कंपनियों की जांच कर रही है। टीम को सीलबंद लिफाफे में हाईकोर्ट को रिपोर्ट सौंपनी है।


गौर करने वाली बात है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की सख्ती के बाद पहचान किए गए कारखानों में से कुछ ने पंजीकरण कराना शुरू कर दिया है। लोगों का कहना है कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अगर सही तरीके से कार्रवाई करे तो कई कारखानों पर ताले लग सकते हैं। 

 

Todays Beets: