Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

प्रदेश में मंत्रियों-अधिकारियों के बीच आॅल इज वेल नहीं, बिना जानकारी दिए ही 74 फोरमैन की कर दी पोस्टिंग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रदेश में मंत्रियों-अधिकारियों के बीच आॅल इज वेल नहीं, बिना जानकारी दिए ही 74 फोरमैन की कर दी पोस्टिंग

देहरादून। उत्तराखंड में ऐसा लगता है कि मंत्रियों और अधिकारियों के बीच आॅल इज वेल नहीं चल रहा है। इसका उदाहरण कई विभागों में देखने को मिल रहे हैं। ताजा मामला प्रशिक्षण विभाग का है जहां 74 फोरमैन का मनमाना तबादला कर दिया गया और इसके लिए मंत्री से अनुमोदन लेने की बात तो दूर उन्हें जानकारी तक नहीं दी गई। मामला संज्ञान में आने पर मंत्री डाॅक्टर हरक सिंह रावत ने निदेशक-प्रशिक्षण के पोस्टिंग आदेश को निरस्त कर दिया है। इसके साथ ही सभी फाइलों को तलब कर लिया है और सभी पोस्टिंग को नए सिरे से करने का प्रस्ताव मांगा है। 

ये भी पढ़ें - हजारों अतिथि शिक्षकों को मिल सकती है राहत, सरकार कोर्ट से एक साल के सेवा विस्तार का करेगी अनुरोध

गौरतलब है कि राज्य के प्रशिक्षण विभाग में करीब 74 फोरमैन का तबादला उनकी मनचाही जगहों पर कर दिया गया। बताया जा रहा है कि इसमें पैसों के लेन-देन की भी शिकायत मिली है। इसके बाद मंत्री डाॅक्टर हरक सिंह ने इस आदेश को निरस्त कर दिया। अब इन फोरमैन की पोस्टिंग नए सिरे से की जाएगी।  बता दें कि प्रशिक्षण विभाग-हल्द्वानी ने 4 जनवरी को 74 अनुदेशकों को फोरमैन के पद पर पदोन्नति की थी। 6 मार्च को निदेशक पंकज कुमार पांडे की ओर से इनकी तैनाती के आदेश किए गए। इनमें से ज्यादातर लोगों की पोस्टिंग वहीं कर दी गई जहां वे पहले से तैनात थे।यहां बता दें कि मंत्री डाॅक्टर हरक सिंह रावत को इसकी सूचना मिलने के बाद उन्होंने फौरन इसे निरस्त करने के आदेश जारी किए। 


 

 

Todays Beets: