Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

इंटर काॅलेजों में सीधी भर्ती के विरोध में उतरा राजकीय प्रधानाचार्य एसोसिएशन, आंदोलन की दी चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इंटर काॅलेजों में सीधी भर्ती के विरोध में उतरा राजकीय प्रधानाचार्य एसोसिएशन, आंदोलन की दी चेतावनी

देहरादून। राज्य के इंटर काॅलेजों में प्रधानाचार्यों के खाली पड़े 50 फीसदी पदों को सीधी भर्ती से भरे जाने की खबर का विरोध होना शुरू हो गया है। राजकीय प्रधानाचार्य एसोसिएशन ने इसका विरोध करते हुए पूरे राज्य में आंदोलन करने की चेतावनी भी दी है। प्रधानाचार्य एसोसिएशन का कहना है कि प्रधानाचार्यों की नियुक्ति का अधिकार राज्य लोक सेवा आयोग के बाहर है। यहां बता दें कि राज्य में शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने के लिए शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने इंटर काॅलेजों में खाली पड़े पदों का 50 फीसदी हिस्सा सीधी भर्ती के जरिए भरने की बात कही है। प्रधानाचार्य एसोसिएशन ने आदेश को निरस्त नहीं करने पर हाईकोर्ट जाने की भी बात कही है।

गौरतलब है कि राजकीय प्रधानाचार्य एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह बिष्ट ने कहा कि प्रवक्ता और एलटी सालों अपनी सेवाएं देने के बाद प्रधानाचार्य के पद पर पदोन्नत होते हैं ऐसे में सीधी भर्ती के जरिए आने वाले शिक्षकों को उतना अनुभव नहीं होता है ऐसे में शिक्षा की गुणवत्ता पर असर पड़ेगा। प्रधानाचार्य एसोसिएशन का कहना है कि प्रधानाचार्य का पद श्रेणी एक में आता है ऐसे में इनकी नियुक्ति राज्य लोक सेवा आयोग के दायरे से बाहर है। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड पर आने वाले 3 दिन पड़ेंगे भारी, मौसम विभाग ने इन इलाकों में दी भारी बारिश की चेतावनी

यहां बता दें कि प्रधानाचार्य एसोसिएशन का कहना है कि जब सालों तक राजकीय हाईस्कूलों में अपनी सेवाएं देने वाले शिक्षक इसके पात्र नहीं हो सकते हैं तो सीधी भर्ती के जरिए आने वाले शिक्षकों को कैसे पात्र माना जा सकता है? सरकार द्वारा इंटर काॅलेज में खाली पड़े 50 फीसदी पदों को सीधी भर्ती से भरने के आदेश का विरोध करते हुए प्रधानाचार्य एसोसिएशन ने आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी है। उनका कहना है कि अगर इस आदेश को निरस्त नहीं किया जाता है तो वे हाईकोर्ट का रुख करेंगे। 


 

 

Todays Beets: