Monday, November 19, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव न होने से प्राईवेट डाॅक्टर हुए नाराज, दी 15 सितंबर से क्लीनिक और अस्पताल बंद करने की चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव न होने से प्राईवेट डाॅक्टर हुए नाराज, दी 15 सितंबर से क्लीनिक और अस्पताल बंद करने की चेतावनी

देहरादून। उत्तराखंड की स्वास्थ्य व्यवस्था एक बार फिर से चरमरा सकती है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ये संबद्ध डाॅक्टरों ने राज्य में क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव नहीं करने की सूरत में 15 सितंबर से निजी अस्पतालों और क्लीनिकों को बंद करने की चेतावनी दी है। इन डाॅक्टरों की मांग है कि हरियाणा की तर्ज पर उत्तराखंड में भी निजी क्लीनिकों और अस्पतालों की व्यवस्था की जाए। बता दें कि हरियाणा में 50 बिस्तरों वाले अस्पतालों को एक्ट के दायरे से बाहर रखा गया है लेकिन सरकार का कहना है कि ऐसा करना मुमकिन नहीं है। 

गौरतलब है कि हरियाणा में क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट के तहत प्राईवेट क्लीनिक और अस्पतालों का पंजीकरण शुल्क भी काफी कम है। राज्य में निजी क्लीनिक और अस्पताल चलाने वाले डाॅक्टरों की मांग है कि यहां भी हरियाणा की तर्ज पर ही व्यवस्था की जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो वे 15 सितंबर के बाद से सभी क्लीनिक और निजी अस्पताल बंद कर देंगे। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश के 26 शिक्षकों को मिलेगा गवर्नर्स टीचर्स अवार्ड, शिक्षक दिवस के मौके पर राज्यपाल करेंग...


यहां बता दें कि कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा की गई छापेमारी में इस बात का खुलासा हुआ था कि कई निजी अस्पताल ऐसे हैं जो मानकों को पूरा नहीं करते हैं। इन अस्पतालों में पूरी तरह से क्वालीफाइड डाॅक्टर भी नहीं हैं लेकिन वे सर्जरी जैसे काम कर रहे हैं इससे मरीजों की जान को खतरा बना हुआ है। यहां बता दें कि सरकार पहले ही कह चुकी है कि 50 बिस्तरों वाले अस्पतालों को एक्ट से दायरे से बाहर रखना मुमकिन नहीं है। 

 

Todays Beets: