Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव न होने से प्राईवेट डाॅक्टर हुए नाराज, दी 15 सितंबर से क्लीनिक और अस्पताल बंद करने की चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव न होने से प्राईवेट डाॅक्टर हुए नाराज, दी 15 सितंबर से क्लीनिक और अस्पताल बंद करने की चेतावनी

देहरादून। उत्तराखंड की स्वास्थ्य व्यवस्था एक बार फिर से चरमरा सकती है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ये संबद्ध डाॅक्टरों ने राज्य में क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव नहीं करने की सूरत में 15 सितंबर से निजी अस्पतालों और क्लीनिकों को बंद करने की चेतावनी दी है। इन डाॅक्टरों की मांग है कि हरियाणा की तर्ज पर उत्तराखंड में भी निजी क्लीनिकों और अस्पतालों की व्यवस्था की जाए। बता दें कि हरियाणा में 50 बिस्तरों वाले अस्पतालों को एक्ट के दायरे से बाहर रखा गया है लेकिन सरकार का कहना है कि ऐसा करना मुमकिन नहीं है। 

गौरतलब है कि हरियाणा में क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट के तहत प्राईवेट क्लीनिक और अस्पतालों का पंजीकरण शुल्क भी काफी कम है। राज्य में निजी क्लीनिक और अस्पताल चलाने वाले डाॅक्टरों की मांग है कि यहां भी हरियाणा की तर्ज पर ही व्यवस्था की जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो वे 15 सितंबर के बाद से सभी क्लीनिक और निजी अस्पताल बंद कर देंगे। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश के 26 शिक्षकों को मिलेगा गवर्नर्स टीचर्स अवार्ड, शिक्षक दिवस के मौके पर राज्यपाल करेंग...


यहां बता दें कि कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा की गई छापेमारी में इस बात का खुलासा हुआ था कि कई निजी अस्पताल ऐसे हैं जो मानकों को पूरा नहीं करते हैं। इन अस्पतालों में पूरी तरह से क्वालीफाइड डाॅक्टर भी नहीं हैं लेकिन वे सर्जरी जैसे काम कर रहे हैं इससे मरीजों की जान को खतरा बना हुआ है। यहां बता दें कि सरकार पहले ही कह चुकी है कि 50 बिस्तरों वाले अस्पतालों को एक्ट से दायरे से बाहर रखना मुमकिन नहीं है। 

 

Todays Beets: