Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव न होने से प्राईवेट डाॅक्टर हुए नाराज, दी 15 सितंबर से क्लीनिक और अस्पताल बंद करने की चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव न होने से प्राईवेट डाॅक्टर हुए नाराज, दी 15 सितंबर से क्लीनिक और अस्पताल बंद करने की चेतावनी

देहरादून। उत्तराखंड की स्वास्थ्य व्यवस्था एक बार फिर से चरमरा सकती है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ये संबद्ध डाॅक्टरों ने राज्य में क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट में बदलाव नहीं करने की सूरत में 15 सितंबर से निजी अस्पतालों और क्लीनिकों को बंद करने की चेतावनी दी है। इन डाॅक्टरों की मांग है कि हरियाणा की तर्ज पर उत्तराखंड में भी निजी क्लीनिकों और अस्पतालों की व्यवस्था की जाए। बता दें कि हरियाणा में 50 बिस्तरों वाले अस्पतालों को एक्ट के दायरे से बाहर रखा गया है लेकिन सरकार का कहना है कि ऐसा करना मुमकिन नहीं है। 

गौरतलब है कि हरियाणा में क्लीनिकल इश्टैब्लिशमेंट एक्ट के तहत प्राईवेट क्लीनिक और अस्पतालों का पंजीकरण शुल्क भी काफी कम है। राज्य में निजी क्लीनिक और अस्पताल चलाने वाले डाॅक्टरों की मांग है कि यहां भी हरियाणा की तर्ज पर ही व्यवस्था की जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो वे 15 सितंबर के बाद से सभी क्लीनिक और निजी अस्पताल बंद कर देंगे। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश के 26 शिक्षकों को मिलेगा गवर्नर्स टीचर्स अवार्ड, शिक्षक दिवस के मौके पर राज्यपाल करेंग...


यहां बता दें कि कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा की गई छापेमारी में इस बात का खुलासा हुआ था कि कई निजी अस्पताल ऐसे हैं जो मानकों को पूरा नहीं करते हैं। इन अस्पतालों में पूरी तरह से क्वालीफाइड डाॅक्टर भी नहीं हैं लेकिन वे सर्जरी जैसे काम कर रहे हैं इससे मरीजों की जान को खतरा बना हुआ है। यहां बता दें कि सरकार पहले ही कह चुकी है कि 50 बिस्तरों वाले अस्पतालों को एक्ट से दायरे से बाहर रखना मुमकिन नहीं है। 

 

Todays Beets: