Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

शिक्षा विभाग और निजी स्कूलों के बीच तनातनी बरकरार, नोटिस के बदले भेजा नोटिस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षा विभाग और निजी स्कूलों के बीच तनातनी बरकरार, नोटिस के बदले भेजा नोटिस

देहरादून। उत्तराखंड में निजी स्कूलों और सरकार के बीच फीस को लेकर उठा मामला पूरी तरह से शांत भी नहीं हुआ है कि एक नया विवाद सामने आ गया है। बता दें कि प्रदेश का शिक्षा विभाग अगले सत्र से फीस एक्ट लाने की तैयारी कर रहा है, लेकिन अभी स्थिति यह है कि फीस वृद्धि पर नोटिस के जवाब में निजी स्कूलों ने शिक्षा विभाग को ही नोटिस भेज दिया है जिसमें सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश का हवाला देकर स्कूलों ने फीस वृद्धि को अपना अधिकार बताया है। ऐसा लगता है कि प्राईवेट स्कूल भी आसानी से मामला अपने हाथों से जाने नहीं देना चाहते हैं। 

गौरतलब है कि सरकार ने प्राईवेट स्कूलों की मनमानी फीस पर लगाम लगाने के लिए अगले सत्र से यूपी की तर्ज पर निजी स्कूलों में फीस एक्ट लाने की तैयारी कर रही है। वहीं दूसरी तरफ निजी स्कूलों ने भी विभाग के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है जिसमें प्रिंसिपल्स प्रोग्रेसिव स्कूल्स एसोसिएशन का समर्थन उन्हें मिला है। 

ये भी पढ़ें - दून एक्सप्रेस में सैन्य अधिकारी ने वर्दी को किया दागदार, महिला से की छेड़छाड़, जीआरपी ने किया गिरफ्तार


यहां बता दें कि अभिभावकों की फीस को लेकर शिक्षा विभाग को गई शिकायत पर दून के कई निजी स्कूलों को नोटिस भेजे गए हैं। इस नोटिस का प्रिंसिपल्स प्रोग्रेसिव स्कूल्स एसोसिएशन के द्वारा पहले से ही विरोध किया जा रहा था। एसोसिएशन ने शिक्षा विभाग के नोटिस में फीस वृद्धि को 2011 की नियमावली का उल्लंघन करार दिया गया है। इसके साथ ही निजी स्कूलों को शिक्षा विभाग द्वारा एनओसी देने को भी नियमविरूद्ध बताया गया है। शिक्षा विभाग के नोटिस का जवाब देते हुए निजी स्कूलों ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का हवाला देते हुए फीस में वृद्धि को उनका अधिकार बताया है।

Todays Beets: