Monday, July 16, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

निजी स्कूल सरकारी आदेशों की उड़ा रहे धज्जियां, चला रहे एनसीईआरटी के बजाय निजी प्रकाशकों की किताबें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
निजी स्कूल सरकारी आदेशों की उड़ा रहे धज्जियां, चला रहे एनसीईआरटी के बजाय निजी प्रकाशकों की किताबें

देहरादून। राज्य के सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की पुस्तकें लागू करने के आदेश की निजी स्कूलों के द्वारा धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। स्कूलों में एनसीईआरटी की पुस्तकों के बजाय निजी प्रकाशकों की किताबें चलाई जा रही हैं। अभिभावकों की तरफ से मिल रही लगातार शिकायतों के बाद कोटद्वार के एक इंटरमीडिएट कॉलेज में शिक्षाधिकारी के द्वारा छापेमारी की गई जिसमें अभिभावकों की शिकायतें सही पाई गईं। 5वीं तक की कक्षाओं में एनसीईआरटी की कोई भी किताब नहीं चलाई जा रही है। वहीं 8वीं से बड़ी कक्षाओं में सिर्फ विज्ञान और गणित के विषयों को छोड़कर अन्य किताबें निजी प्रकाशकों की ही चलाई जा रहीं हैं।

ये भी पढ़ें - अब आधे घंटे पहले मिलेगी बादल फटने की जानकारी, मौसम विभाग स्थापित करेगा राडार


गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार ने नए शैक्षिक सत्र से राज्य के सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबें हर हाल में लागू करने के आदेश दिए थे। इसके लिए किताबों की बाजार में उपलब्धता के भी उपाय किए गए लेकिन इन सरकारी कोशिशों के बावजूद निजी स्कूल अपनी मनमानी कर रहे हैं। कोटद्वार इलाके के एक निजी इंटरमीडिएट कॉलेज में सरकारी आदेशों की धज्जियां उड़ाने की खबरें आने के बाद शिक्षा अधिकारी के द्वारा की गई छापेमारी में यह बात सही पाई गई। यहां बता दें कि शिक्षा अधिकारी ने इस बावत स्कूल के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली है और इसकी जानकारी अब जल्द ही उच्च अधिकारियों को इसकी जानकारी दी जाएगी। इसके बाद शासन के स्तर पर कार्रवाई की जाएगी।  

Todays Beets: