Friday, July 20, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

सरकार के रवैये से नाराज प्राईवेट स्कूल आज मनाएंगे काला दिवस, करेंगे कार्यबहिष्कार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकार के रवैये से नाराज प्राईवेट स्कूल आज मनाएंगे काला दिवस, करेंगे कार्यबहिष्कार

देहरादून। उत्तराखंड में चलने वाले सभी निजी स्कूल गुरुवार को सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए काला दिवस मनाएंगे। इसके लिए स्कूलों के शिक्षक और संचालक हाथों पर काली पट्टी बांधकर कार्यबहिष्कार करेंगे। बता दें कि गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुई छात्र की हत्या के बाद राज्य के सभी प्राईवेट स्कूलों पर राज्य सरकार ने शिकंजा कस दिया था और छात्रों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कई नए नियम भी बना दिए थे। प्राईवेट स्कूलों के संचालक सरकार की इस बात का ही विरोध कर रहे हैं।

परेशान करने वाला कदम

गौरतलब है कि प्रिंसिपल्स प्रोग्रेसिव स्कूल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रेम कश्यप ने इस बात का खुलासा किया है कि वे अपने संसाधनों के आधार पर छात्रों को बेहतर से बेहतर शिक्षा मुहैया कराने की कोशिश करते हैं। इसके बाद भी किसी एक घटना की वजह से पूरे समुदाय को दोषी मान लिया जाता है।  प्रिंसिपल्स एसोसिएशन ने गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुई छात्र की हत्या की निंदा करते हुए कहा कि इस तरह की घटना बिल्कुल निंदनीय है और नहीं होनी चाहिए। ऐसे मामले होने पर प्रशासन द्वारा स्कूल के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई की जाती है। इतना ही नहीं स्कूलों पर कई अव्यवहारिक नियम भी थोप दिए जाते हैं। निजी स्कूलों के खिलाफ ऐसा रवैया अपनाया जा रहा है, जैसे सभी ऐसी घटनाओं में संलिप्त हों। उन्होंने कहा कि स्कूलों द्वारा बच्चों की सुरक्षा के लिए आवश्यक उपाय किए गए हैं और इनकी निरंतर समीक्षा से किसी स्कूल ने इंकार नहीं किया है लेकिन स्कूल में किसी भी तरह की घटना होने पर प्रधानाचार्य या प्रबंधक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर देना उत्पीड़न करने वाला कदम है। 

ये भी पढ़ें - पर्यावरण संरक्षण के नाम पर गोरखधंधा करने वाले एनजीओ पर कसेगा शिकंजा, वन विभाग कर रहा तैयारी 


निजता का हनन

आपको बता दें कि उन्होंने कहा कि एक घटना के आधार पर सभी को अपराधी मान लेना सही बात नहीं है। स्कूलों में शिक्षकों का फोटोयुक्त प्रोफाइल, आधार व फोन नंबर नोटिस बोर्ड पर चस्पा करने को भी उन्होंने निजता का हनन बताया है। कश्यप ने कहा कि निजी स्कूल में नियमित रूप से पीटीएम होती हैं और शिक्षक-अभिभावक लगातार मिलते हैं। प्रिंसिपल्स एसोसिएशन ने राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को पत्र लिखकर अपनी नाराजगी जताई है। 

Todays Beets: