Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद

पौड़ी। उत्तराखंड में पलायन से खाली होने वाले गांवों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। राज्य में शासन करने वाली किसी सरकार ने इन गांवों से पलायन को रोकने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए। नतीजा यह हुआ कि आज राज्य के ज्यादातर गांव वीरान हो चुके हैं। ऐसे में भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने एक बड़ी पहल की है। बता दें कि अनिल बलूनी ने पौड़ी जिले के गांव बौर (दुगड्डा) को गोद लेने का फैसला लिया है। वे इस गांव को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर लेकर आबाद करेंगे।

गौरतलब है कि उत्तराखंड को एक अलग राज्य बने हुए करीब डेढ़ दशक हो चुके हैं। इस बीच किसी भी नेता ने पलायन की वजह से खाली हुए गांव को गोद नहीं लिया और न ही उसे आबाद करने के बारे में सोचा। राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने कहा कि पलायन राज्य के लिए एक बड़ा मुद्दा तो है लेकिन इससे भी बड़ी बात है कि प्रदेश की संस्कृति खत्म होती जा रही है। 

ये भी पढ़ें - फर्जी दस्तावेज पर कर ली पूरी नौकरी, अब खुलासा होने पर दर्ज हुआ मुकदमा


यहां बता दें कि बलूनी ने कहा कि राज्य की संस्कृति को वापस लाने के मकसद से उन्होंने गैरआबाद गांव, बौर (दुगड्डा) को गोद लेकर उसे बसाने का फैसला लिया है। अनिल बलूनी ने इस गांव को फिर से बसाने की पूरी योजना भी तैयार कर ली है और वे इसके लिए प्रवासी लोगों से बात करेंगे। गौर करने वाली बात है कि साल 2011 तक बौर गांव में 23 परिवार रह रहे थे लेकिन एक-एक कर सभी परिवार गांव से पलायन कर गए। अब इस गांव में कभी-कभी ही लोगों का आना-जाना होता है। 

Todays Beets: