Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद

पौड़ी। उत्तराखंड में पलायन से खाली होने वाले गांवों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। राज्य में शासन करने वाली किसी सरकार ने इन गांवों से पलायन को रोकने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए। नतीजा यह हुआ कि आज राज्य के ज्यादातर गांव वीरान हो चुके हैं। ऐसे में भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने एक बड़ी पहल की है। बता दें कि अनिल बलूनी ने पौड़ी जिले के गांव बौर (दुगड्डा) को गोद लेने का फैसला लिया है। वे इस गांव को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर लेकर आबाद करेंगे।

गौरतलब है कि उत्तराखंड को एक अलग राज्य बने हुए करीब डेढ़ दशक हो चुके हैं। इस बीच किसी भी नेता ने पलायन की वजह से खाली हुए गांव को गोद नहीं लिया और न ही उसे आबाद करने के बारे में सोचा। राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने कहा कि पलायन राज्य के लिए एक बड़ा मुद्दा तो है लेकिन इससे भी बड़ी बात है कि प्रदेश की संस्कृति खत्म होती जा रही है। 

ये भी पढ़ें - फर्जी दस्तावेज पर कर ली पूरी नौकरी, अब खुलासा होने पर दर्ज हुआ मुकदमा


यहां बता दें कि बलूनी ने कहा कि राज्य की संस्कृति को वापस लाने के मकसद से उन्होंने गैरआबाद गांव, बौर (दुगड्डा) को गोद लेकर उसे बसाने का फैसला लिया है। अनिल बलूनी ने इस गांव को फिर से बसाने की पूरी योजना भी तैयार कर ली है और वे इसके लिए प्रवासी लोगों से बात करेंगे। गौर करने वाली बात है कि साल 2011 तक बौर गांव में 23 परिवार रह रहे थे लेकिन एक-एक कर सभी परिवार गांव से पलायन कर गए। अब इस गांव में कभी-कभी ही लोगों का आना-जाना होता है। 

Todays Beets: