Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद

पौड़ी। उत्तराखंड में पलायन से खाली होने वाले गांवों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। राज्य में शासन करने वाली किसी सरकार ने इन गांवों से पलायन को रोकने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए। नतीजा यह हुआ कि आज राज्य के ज्यादातर गांव वीरान हो चुके हैं। ऐसे में भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने एक बड़ी पहल की है। बता दें कि अनिल बलूनी ने पौड़ी जिले के गांव बौर (दुगड्डा) को गोद लेने का फैसला लिया है। वे इस गांव को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर लेकर आबाद करेंगे।

गौरतलब है कि उत्तराखंड को एक अलग राज्य बने हुए करीब डेढ़ दशक हो चुके हैं। इस बीच किसी भी नेता ने पलायन की वजह से खाली हुए गांव को गोद नहीं लिया और न ही उसे आबाद करने के बारे में सोचा। राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने कहा कि पलायन राज्य के लिए एक बड़ा मुद्दा तो है लेकिन इससे भी बड़ी बात है कि प्रदेश की संस्कृति खत्म होती जा रही है। 

ये भी पढ़ें - फर्जी दस्तावेज पर कर ली पूरी नौकरी, अब खुलासा होने पर दर्ज हुआ मुकदमा


यहां बता दें कि बलूनी ने कहा कि राज्य की संस्कृति को वापस लाने के मकसद से उन्होंने गैरआबाद गांव, बौर (दुगड्डा) को गोद लेकर उसे बसाने का फैसला लिया है। अनिल बलूनी ने इस गांव को फिर से बसाने की पूरी योजना भी तैयार कर ली है और वे इसके लिए प्रवासी लोगों से बात करेंगे। गौर करने वाली बात है कि साल 2011 तक बौर गांव में 23 परिवार रह रहे थे लेकिन एक-एक कर सभी परिवार गांव से पलायन कर गए। अब इस गांव में कभी-कभी ही लोगों का आना-जाना होता है। 

Todays Beets: