Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

हमें सकारात्मक सोच के साथ गुड गवर्नेंस पर ध्यान देना होगा - त्रिवेंद्र सिंंह रावत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हमें सकारात्मक सोच के साथ गुड गवर्नेंस पर ध्यान देना होगा - त्रिवेंद्र सिंंह रावत

देहरादून । उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को सचिवालय में राज्य स्थापना सप्ताह के अवसर पर आयोजित रन फॉर गुड गवर्नेन्स को झण्डी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर बोलते हुए सीएम रावत ने कहा कि आज हम सचिवालय के लोग यहाँ पर रन फॉर गुड गवर्नेंन्स के लिए दौड़ रहे हैं। सचिवालय की परिक्रमा करके हम प्रदेश के विकास की गति का संदेश देंगे। हमें गुड गवर्नेंन्स पर ध्यान देना है। राज्य की विकास की गति तेजी से दौड़े, यह संकल्प लेकर हमें दौड़ना है। हमें सकारात्मक सोच बनानी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य 17 वर्ष पूरे करने जा रहा है। हमने रैबार कार्यक्रम से इसकी शुरुवात की है। देश के महत्वपूर्ण स्थानों पर उत्तराखण्ड के लोगों को इसमें सम्मिलित करने का प्रयास किया। उन्होंने महसूस किया कि वे लोग अपने घर आए, यही महसूस कराना रैबार कार्यक्रम का लक्ष्य था।

उन्होंने कहा कि 2 नदियों अल्मोड़ा में कोसी और देहरादून में रिस्पना (ऋषिपर्णा) नदी के पुनर्जीवीकरण का कार्यक्रम शुरू किया। यदि हम अभी भी नहीं बदले तो इन नदियों का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। हमने इसके लिए दीर्घकालिक योजना पर कार्य करना है। यह कार्य जन सहयोग से होना है। हमने तय किया है कि इस कार्य को सरकारी और सहकारी भाव किया जाना है। इसके लिए परमार्थ निकेतन ने एक करोड़ रूपए की सहायता की घोषणा की। रिस्पना के लिए ऐसी रणनीति बनानी है कि इसमें जितने भी पौधे लगेंगे, उन्हें एक दिन में लगाया जाएगा। उन्होंने आह्वान किया कि इसमें सभी लोग सम्मिलित हों, तभी यह अभियान सफल होगा।


मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे आई.ए.एस. अधिकारी विद्यालयों में गए। उन्होंने विद्यालयों की स्थिति और विद्यार्थियों की स्थिति को समझा होगा। नीति निर्धारक जब सच्चाई को जानेंगे, स्थिति को समझेंगे तो उसके अनुसार नीतियाँ बना पाएंगे।इस अवसर पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारीगण एवं सचिवालय के सभी  अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित थे।

Todays Beets: