Wednesday, January 17, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बाॅन्ड पर पढ़ाई कर गायब डाॅक्टरों पर होगी कार्रवाई, पंजीकरण हो सकता है रद्द

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बाॅन्ड पर पढ़ाई कर गायब डाॅक्टरों पर होगी कार्रवाई, पंजीकरण हो सकता है रद्द

देहरादून। राज्य सरकार ने बाॅन्ड के आधार पर सरकारी मेडिकल काॅलेजों से सस्ती पढ़ाई कर गायब होने वाले डाॅक्टरों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। ऐसे डाॅक्टरों का पंजीकरण रद्द हो सकता है। पंजीकरण रद्द होने के बाद वे किसी भी अस्पताल में अपनी सेवाएं नहीं दे पाएंगे। डॉक्टरों का पंजीकरण रद्द करने से पहले सरकार विधिक राय भी ले रही है। बता दें कि इस सिलसिले में चिकित्सा शिक्षा विभाग की एक टीम एमसीआई में एक दौर की बैठक भी कर चुकी है। 

डाॅक्टरों पर सख्त कार्रवाई

गौरतलब है कि सरकारी बाॅन्ड पर पढ़ाई पूरी करने के बाद हल्द्वानी और श्रीनगर मेडिकल कॉलेजों से पास आउट करीब 300 डॉक्टर गायब चल रहे हैं। अब सरकार ने गायब डॉक्टरों को 31 दिसम्बर तक ज्वाइन करने का अल्टीमेटम दिया था लेकिन सिर्फ 150 के करीब डॉक्टर ही ज्वाइन करने को तैयार हो पाए हैं। बाकी के डाॅक्टर अभी भी आने को तैयार नहीं हैं। ऐसे डाॅक्टरों पर सख्त कार्रवाई की तैयारी की जा रही है।

 ये भी पढ़ें आदेश की नाफरमानी करने वाले मदरसों पर होगी कार्रवाई, पीएम मोदी की तस्वीर लगाने का है मामला


पहले वसूली की कार्रवाई

आपको बता दें कि सरकार इन गायब डॉक्टरों की आरसी काटकर पहले उनसे वसूली की कार्रवाई करेगी। इसके बाद भी अगर डॉक्टर नहीं मानते हैं तो उनका पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा। यहां बता दें कि सरकारी मेडिकल कॉलेजों से अभी तक 800 के करीब बाॅन्ड के डॉक्टर पास आउट हो गए हैं लेकिन 300 से ज्यादा गायब हैं। विभाग द्वारा इन डाॅक्टरों से आज तक बाॅन्ड की राशि वसूल नहीं की गई इसलिए डॉक्टर ज्वाइन करने को तैयार नहीं हैं। 

डॉक्टरों के 1616 पद खाली

गौर करने वाली बात है कि राज्य में डॉक्टरों के 1616 पद खाली चल रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार राज्य के 724 अस्पतालों में से 300 अस्पताल में एक भी डाॅक्टर नहीं हैं।  

Todays Beets: