Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

दून के पूर्व सीएमओ ने युवा डाॅक्टरों के लिए पेश की मिसाल, मुफ्त में देंगे अपनी सेवाएं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून के पूर्व सीएमओ ने युवा डाॅक्टरों के लिए पेश की मिसाल, मुफ्त में देंगे अपनी सेवाएं

देहरादून। प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था की हालत किसी से छिपी हुई नहीं है। ऐसे में ज्यादातर चिकित्सकों के द्वारा दूर दराज पहाड़ी इलाकों में जाने से इंकार करने पर यह समस्या और बढ़ जाती है। पहाड़ चढ़ने से मना करने वाले डाॅक्टरों के सामने दून के पूर्व सीएमओ पद से सेवानिवृत्त हो चुके डॉक्टर जीएस जंगपांगी ने एक मिसाल कायम की है। दून अस्पताल में एनेस्थेटिक की कमी को देखते हुए उन्होंने नई नियुक्ति होने तक मुफ्त में सेवा देने का फैसला लिया है। वे आज यानी शुक्रवार से ही अपनी सेवा देना शुरू कर देंगे। स्वास्थ्य सचिव नितेश झा, दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के प्राचार्य डॉक्टर प्रदीप भारती गुप्ता और एमएस डाॅक्टर केके टम्टा ने उनकी इस पहल की सराहना की है। 

गौरतलब है कि दून के अस्पताल में एनेस्थेटिक की कमी के चलते आॅपरेशन का काम रोक दिया गया था। अखबारों के जरिए ऐसी खबर मिलने के बाद डाॅक्टर जीएस जंगपांगी ने खुद यह कदम उठाया। उनका कहना है कि एनेस्थेटिक की कमी के चलते किसी गरीब आदमी का आॅपरेशन न रुके, इस वजह से यह फैसला लिया है। 

ये भी पढ़ें - सरकारी स्कूलों की तर्ज पर कम छात्र वाले अशासकीय स्कूल भी होंगे बंद, शिक्षकों की नियुक्ति भी स...


यहां बता दें कि दून अस्पताल में एनेस्थेटिक की भारी कमी है। डाॅक्टर जंगपांगी ने कहा कि दून अस्पताल में आने वाले ज्यादातर मरीजों का आॅपरेशन एक ही एनेस्थेटिक के जिम्मे है। उन्होंने कहा कि 5 एनेस्थेटिक सिर्फ दून महिला अस्पताल में तैनात हैं। गौर करने वाली बात है कि डाॅक्टर जंगपांगी दून और नैनीताल के पूर्व सीएमओ भी रह चुके हैं। दून अस्पताल के प्राचार्य डाॅक्टर प्रदीप भारती गुप्ता और डाॅक्टर केके टम्टा ने उनकी इस पहल की काफी सराहना की है। 

Todays Beets: