Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

दून के पूर्व सीएमओ ने युवा डाॅक्टरों के लिए पेश की मिसाल, मुफ्त में देंगे अपनी सेवाएं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून के पूर्व सीएमओ ने युवा डाॅक्टरों के लिए पेश की मिसाल, मुफ्त में देंगे अपनी सेवाएं

देहरादून। प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था की हालत किसी से छिपी हुई नहीं है। ऐसे में ज्यादातर चिकित्सकों के द्वारा दूर दराज पहाड़ी इलाकों में जाने से इंकार करने पर यह समस्या और बढ़ जाती है। पहाड़ चढ़ने से मना करने वाले डाॅक्टरों के सामने दून के पूर्व सीएमओ पद से सेवानिवृत्त हो चुके डॉक्टर जीएस जंगपांगी ने एक मिसाल कायम की है। दून अस्पताल में एनेस्थेटिक की कमी को देखते हुए उन्होंने नई नियुक्ति होने तक मुफ्त में सेवा देने का फैसला लिया है। वे आज यानी शुक्रवार से ही अपनी सेवा देना शुरू कर देंगे। स्वास्थ्य सचिव नितेश झा, दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के प्राचार्य डॉक्टर प्रदीप भारती गुप्ता और एमएस डाॅक्टर केके टम्टा ने उनकी इस पहल की सराहना की है। 

गौरतलब है कि दून के अस्पताल में एनेस्थेटिक की कमी के चलते आॅपरेशन का काम रोक दिया गया था। अखबारों के जरिए ऐसी खबर मिलने के बाद डाॅक्टर जीएस जंगपांगी ने खुद यह कदम उठाया। उनका कहना है कि एनेस्थेटिक की कमी के चलते किसी गरीब आदमी का आॅपरेशन न रुके, इस वजह से यह फैसला लिया है। 

ये भी पढ़ें - सरकारी स्कूलों की तर्ज पर कम छात्र वाले अशासकीय स्कूल भी होंगे बंद, शिक्षकों की नियुक्ति भी स...


यहां बता दें कि दून अस्पताल में एनेस्थेटिक की भारी कमी है। डाॅक्टर जंगपांगी ने कहा कि दून अस्पताल में आने वाले ज्यादातर मरीजों का आॅपरेशन एक ही एनेस्थेटिक के जिम्मे है। उन्होंने कहा कि 5 एनेस्थेटिक सिर्फ दून महिला अस्पताल में तैनात हैं। गौर करने वाली बात है कि डाॅक्टर जंगपांगी दून और नैनीताल के पूर्व सीएमओ भी रह चुके हैं। दून अस्पताल के प्राचार्य डाॅक्टर प्रदीप भारती गुप्ता और डाॅक्टर केके टम्टा ने उनकी इस पहल की काफी सराहना की है। 

Todays Beets: