Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

शुरू होने से पहले ही रिवरफ्रंट योजना विवादों में, मैड संस्था ने एमडीडीए से पूछे 4 सवाल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शुरू होने से पहले ही रिवरफ्रंट योजना विवादों में, मैड संस्था ने एमडीडीए से पूछे 4 सवाल

देहरादून। देहरादून में प्रस्तावित रिवर फ्रंट योजना शुरू होने से पहले ही विवादों में घिर गई है। एमडीडीए की तरफ से रिस्पना नदी को पुनर्जीवन को लेकर मेकिंग ए डिफरेंस बाय बीइंग द डिफरेंस (मैड) संस्था से जुड़े छात्रों ने उसे कठघरे में खड़ा किया है। इस योजना को लेकर छात्रों एमडीडीए से कई सवाल भी पूछे हैं। पत्रकारों से बात करते हुए संस्था के अध्यक्ष अभिजय नेगी ने कहा कि रिस्पना नदी के पुनर्जीवन को लेकर जून 2011 से ही राज्य व केंद्र की सरकार को सचेत किया जा रहा था। नदी के बजाय रिवरफ्रंट पर ध्यान

गौरतलब है कि ‘मैड’ ने प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से अप्रैल महीने  में ही रिस्पना नदी के पुनर्जीवन की मांग उठाई थी। उनकी मांग के बाद सीएम ने इसे पुनर्जीवित करने का जिम्मा उठाया था। इस बात को लेकर कई सवाल उठाए हैं। संस्था का मानना है कि रिस्पना नदी को पुनर्जीवित करने से देहरादून का संतुलित विकास होगा लेकिन एमडीडीए नदी के बजाय रिवर फ्रंट बनाने पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है। 

ये भी पढ़ें - अब मदरसा बोर्ड में नहीं होगा उपाध्यक्ष का पद, मदरसा शिक्षा बोर्ड एक्ट में संशोधन के बाद हुआ फैसला


ये हैं 4 सवाल

आपको बता दें कि मैड ने प्राधिकरण से 4 सवाल पूछे। अभिजय ने पूछा कि रिवरफ्रंट को विकसित करने में एनजीटी के मानकों का पालन किया जा रहा है? दूसरा सवाल यह कि क्या एमडीडीए द्वारा सिंचाई विभाग की आपत्तियों का निपटारा किया जा चुका है। तीसरा सवाल यह कि रिवरफ्रंट योजना से प्रभावित होने वाली मलिन बस्तियों के पुनर्वास के लिए क्या व्यवस्था की गई है। चैथा सवाल पूछा कि आखिर अब तक एमडीडीए द्वारा इस परियोजना के पूरे स्वरूप को सार्वजनिक क्यों नहीं किया गया है। 

Todays Beets: