Saturday, August 18, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

विधवाओं की स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, उत्तराखंड समेत 12 राज्यों पर लगाया जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विधवाओं की स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, उत्तराखंड समेत 12 राज्यों पर लगाया जुर्माना

नई दिल्ली/देहरादून। देश में विधवाओं के पुनर्वास और उनके आश्रयों को लेकर दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने पर सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड समेत 12 राज्यों पर जुर्माना लगाया है। इन सभी राज्यों को दो-दो लाख रुपये का जुर्माना देगा होगा। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, मिजोरम, असम, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, तमिलनाडु और अरुणाचल प्रदेश शामिल हैं। न्यायालय ने उन राज्यों पर भी एक-एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है, जिन्होंने आदेश का पालन तो किया लेकिन पूरी जानकारी नहीं दी है।

स्थिति में सुधार के लिए कमेटी

गौरतलब है कि देश में विधवा महिला की हालत में कैसे सुधार लाया जाए इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने 5 सदस्यीय टीम बनाई थी जिसमें वकील और सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हैं। समिति में गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) जागोरी की सुनीता धर, गिल्ड फॉर सर्विस की मीरा खन्ना, वकील और सामाजिक कार्यकर्ता आभा सिंघल जोशी, हेल्प एज इंडिया और सुलभ इंटरनेशनल का एक-एक प्रतिनिधि शामिल हैं।


ये भी पढ़ें - दूरस्थ इलाके में स्वास्थ्य सेवाएं होंगी बेहतर, सरकार ने ‘एचपी’ के साथ किया करार

केन्द्र को निर्देश

बता दें कि 18 जुलाई को न्यायालय ने केन्द्र सरकार को उन महिलाओं की शादी के लिए योजना बनाने के निर्देश दिए थे जो कम उम्र में विधवा हो गई हैं। न्यायालय ने विधवा कल्याण के रोडमैप पर ऐतराज जताते हुए कहा कि विधवा महिलाओं से बेहतर खाना जेल के कैदियों को मिलता है। 

Todays Beets: