Sunday, February 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

विधवाओं की स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, उत्तराखंड समेत 12 राज्यों पर लगाया जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विधवाओं की स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, उत्तराखंड समेत 12 राज्यों पर लगाया जुर्माना

नई दिल्ली/देहरादून। देश में विधवाओं के पुनर्वास और उनके आश्रयों को लेकर दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने पर सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड समेत 12 राज्यों पर जुर्माना लगाया है। इन सभी राज्यों को दो-दो लाख रुपये का जुर्माना देगा होगा। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, मिजोरम, असम, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, तमिलनाडु और अरुणाचल प्रदेश शामिल हैं। न्यायालय ने उन राज्यों पर भी एक-एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है, जिन्होंने आदेश का पालन तो किया लेकिन पूरी जानकारी नहीं दी है।

स्थिति में सुधार के लिए कमेटी

गौरतलब है कि देश में विधवा महिला की हालत में कैसे सुधार लाया जाए इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने 5 सदस्यीय टीम बनाई थी जिसमें वकील और सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हैं। समिति में गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) जागोरी की सुनीता धर, गिल्ड फॉर सर्विस की मीरा खन्ना, वकील और सामाजिक कार्यकर्ता आभा सिंघल जोशी, हेल्प एज इंडिया और सुलभ इंटरनेशनल का एक-एक प्रतिनिधि शामिल हैं।


ये भी पढ़ें - दूरस्थ इलाके में स्वास्थ्य सेवाएं होंगी बेहतर, सरकार ने ‘एचपी’ के साथ किया करार

केन्द्र को निर्देश

बता दें कि 18 जुलाई को न्यायालय ने केन्द्र सरकार को उन महिलाओं की शादी के लिए योजना बनाने के निर्देश दिए थे जो कम उम्र में विधवा हो गई हैं। न्यायालय ने विधवा कल्याण के रोडमैप पर ऐतराज जताते हुए कहा कि विधवा महिलाओं से बेहतर खाना जेल के कैदियों को मिलता है। 

Todays Beets: