Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तराखंड के गढ़वाल में बड़े भूकंप की चेतावनी, वैज्ञानिकों ने जताई चिंता

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के गढ़वाल में बड़े भूकंप की चेतावनी, वैज्ञानिकों ने जताई चिंता

देहरादून। वैज्ञानिकों ने उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में एक बड़े भूकंप की आशंका जताई है। इस भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 8 बताई गई है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस क्षेत्र में सात सौ सालों से बड़ा भूकंप नहीं आया है, जिस कारण बड़े भूकंप की आशंका व्यक्त की गई है। वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि समूचा उत्तर भारत इस भूकंप की चपेट में आएगा और सबसे अधिक नुकसान तराई के क्षेत्रों में होगा। बता दें कि भूकंप वैज्ञानिकों की कार्यशाला में इस बात पर गंभीर चिंता जताई गई है। 

जमीन के अंदर ऊर्जा संचित

गौरतलब है कि वैज्ञानिकों का मानना है कि गढ़वाल हिमालय में 8 रिक्टर स्केल से ज्यादा बड़े भूकंप के लायक ऊर्जा जमा हो गई है। हालांकि यहां हल्के भूकंप आ रहे हैं लेकिन पूरी ऊर्जा नहीं निकल रही है। ऐसे में यहां बड़े भूकंप का खतरा निरंतर बना हुआ है। बता दें कि वाडिया भू विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिक जेजी पेरूमल ने अपने अध्ययन का हवाला देते हुए बताया कि इस क्षेत्र में वर्ष 1344 से अभी तक बड़ा भूकंप नहीं आया। 

ये भी पढ़ें - विकास और पर्यावरण दोनों की दोस्ती जरूरी, लेकिन पर्यावरण संरक्षण एक चुनौती -त्रिवेंद्र सिंह रावत


ज्यादा नुकसान की आशंका

आपको बता दें कि 1344 में आए भूकंप का केंद्र रामनगर के पास था जिसका असर पंजाब तक होने के प्रमाण मिले हैं। वैज्ञानिकों ने अपने अध्ययन में बताया कि 1905 में कांगड़ा में जो भूकंप आया था यदि वह आज आए तो 10 लाख लोगों की मौत होगी। यदि इसी स्केल का भूकंप उत्तराखंड में आए तो मौत का आंकड़ा इससे भी ज्यादा होगा क्योंकि उत्तराखंड में जनसंख्या घनत्व हिमाचल से ज्यादा है।  

Todays Beets: