Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

CM रावत ने परचून की दुकान में शराब मिलने वाली खबरों को बताया महज अफवाह, कहा-फैलाई जा रहीं झूठी खबरें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
CM रावत ने परचून की दुकान में शराब मिलने वाली खबरों को बताया महज अफवाह, कहा-फैलाई जा रहीं झूठी खबरें

देहरादून। उत्तराखंड में शराब की बिक्री को लेकर फैलाई जा रही अफवाह पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने कहा है यह बिल्कुल निराधार है। सरकार ने बिल्कुल पारदर्शी आबकारी नीति लागू की है। सोशल मीडिया में वायरल हो रही खबरों के अनुसार सरकार ने विदेशी शराब और वाइन दुकान में बेचने की शर्त में छूट दी है। अगर दुकानदार का सलाना टर्नओवर 50 लाख हो और वह लाईसेंस की एवज में 5 लाख जमा कर सकता है तो उसे लाईसेंस मिल सकेगा। सीएम ने इस दौरान कहा कि सरकार शराब को बढ़ावा देने के पक्ष में नही है, बल्कि इसके लिए बनाये नियमों का पारदर्शी तरीके से लागू करने का प्रयास कर रही है। 

ये भी पढ़ें - रुड़की में दिन दहाड़े बदमाशों ने कैश वैन को लूटा, 25 लाख लेकर फरार, बाल-बाल बची सुरक्षाकर्मी की जान

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने सोशल मीडिया में वायरल हो रही खबरों पर अपनी सफाई देते हुए कहा कि सरकार ने एक पारदर्शी आबकारी नीति लागू की है। उन्होंने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वर्ष 2014 में एफ.एल.-5एम/डी.एस. के नाम से एक पाॅलिसी लाई थी जिसके अंतर्गत माॅल/डिपार्टमेंटल स्टोर में 2 लाख रुपये का शुल्क देकर लाईसेंसधारियों को विदेशी शराब बेचने का अधिकार दिया गया था लेकिन सीएम ने कहा कि एफ.एल.-5एम/डी.एस. पाॅलिसी में किए गए संशोधन परचून किराना स्टोर में शराब बेचने के लिए नहीं है बल्कि पहले से चली आ रही पाॅलिसी के दुरुपयोग को रोकने के लिए एक ईमानदार एवं पारदर्शी कदम है।  


आपको बता दें कि मुख्यमंत्री ने कहा कि नए प्रावधानों के तहत माॅल/डिपार्टमेंटल स्टोर का लाइसेंस शुल्क 2 लाख से बढ़ाकर 5 लाख कर दिया गया है। साथ ही यह प्रावधान भी किया गया है कि यह लाईसेंस तब दिया जाएगा, जब उस स्टोर का सालाना टर्नओवर 50 लाख रुपये से अधिक हो। इससे वास्तविक डिपार्टमेंटल स्टोर ही लाईसेंस के लिए आवेदन कर सकेंगे। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने जनता से  किसी भी तरह के भ्रामक दुष्प्रचार से बचने की अपील की है।  

 

Todays Beets: