Friday, December 15, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

बदलते मौसम के बीच आसन वैटलैंड में जुट रहा प्रवासी पक्षियों का झुंड, सुरक्षा व्यवस्था की गई कड़ी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बदलते मौसम के बीच आसन वैटलैंड में जुट रहा प्रवासी पक्षियों का झुंड, सुरक्षा व्यवस्था की गई कड़ी

देहरादून। उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बदलते मौसम के साथ देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व वैटलैंड आसन में प्रवासी पक्षियों के आगमन का सिलसिला शुरू हो गया है। यहां आने वाले विदेशी परिंदों में बड़ी संख्या में सुर्खाब और गोल्डन होराॅन भी शामिल हैं। पक्षियों की बढ़ती तादाद के मद्देनजर सैलानियों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है। पर्यटक उन्हें अपने कैमरे में कैद करने में लगे हुए हैं। 

बड़ी संख्या में सुर्खाब आ रहे

गौरतलब है कि उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाके में मौसम ने करवट लेनी शुरू कर दी है और इसीके साथ प्रवासी परिंदों का झुंड आसन वैटलैंड में जुटकर मौसम का आनंद लेने में जुट रहे हैं। रुडी शेलडक के बाद छह प्रजातियों के परिंदे भी उत्तराखंड के मेहमान बन गए हैं। इंडियन पांड हेरोन, पर्पल हेरोन, ब्लैक विंग्ड सिल्ट, कॉमन कूट, कॉमन पोचार्ड, टफ्टेड प्रजाति के परिंदे भी आसन नमभूमि पहुंच चुके हैं। हालांकि इन प्रजातियों की संख्या अभी कम है। वहीं सुर्खाब की संख्या में इजाफा होने पर संख्या 300 के करीब जा पहुंची है। यहां बता दें कि आसन में हर साल बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं।

ये भी पढ़ें - एक नाम पर दो फायदा लेने वाले दिव्यांगों की रुकेगी पेंशन, जांच के लिए नई टीम का गठन 


सुरक्षा कड़ी की गई

यहां यह जानना जरूरी है कि अक्टूबर और अप्रैल के बीच आने वाले इन पक्षियों की प्रजातियां यहां की नमभूमि का आनंद लेने लगे हैं। आसन झील में पक्षियों के सुनहरे पंख लोगों को अपनी ओर खींचने लगे हैं। प्रवासी पक्षियों के आगमन को देखते हुए उनकी सुरक्षा व्यवस्था भी कड़ी कर दी गई है। चकराता वन प्रभाग के कर्मचारी लगातार रात में भी झील की गश्त कर रहे हैं। 

 

  

Todays Beets: