Thursday, October 19, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

बदलते मौसम के बीच आसन वैटलैंड में जुट रहा प्रवासी पक्षियों का झुंड, सुरक्षा व्यवस्था की गई कड़ी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बदलते मौसम के बीच आसन वैटलैंड में जुट रहा प्रवासी पक्षियों का झुंड, सुरक्षा व्यवस्था की गई कड़ी

देहरादून। उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बदलते मौसम के साथ देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व वैटलैंड आसन में प्रवासी पक्षियों के आगमन का सिलसिला शुरू हो गया है। यहां आने वाले विदेशी परिंदों में बड़ी संख्या में सुर्खाब और गोल्डन होराॅन भी शामिल हैं। पक्षियों की बढ़ती तादाद के मद्देनजर सैलानियों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है। पर्यटक उन्हें अपने कैमरे में कैद करने में लगे हुए हैं। 

बड़ी संख्या में सुर्खाब आ रहे

गौरतलब है कि उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाके में मौसम ने करवट लेनी शुरू कर दी है और इसीके साथ प्रवासी परिंदों का झुंड आसन वैटलैंड में जुटकर मौसम का आनंद लेने में जुट रहे हैं। रुडी शेलडक के बाद छह प्रजातियों के परिंदे भी उत्तराखंड के मेहमान बन गए हैं। इंडियन पांड हेरोन, पर्पल हेरोन, ब्लैक विंग्ड सिल्ट, कॉमन कूट, कॉमन पोचार्ड, टफ्टेड प्रजाति के परिंदे भी आसन नमभूमि पहुंच चुके हैं। हालांकि इन प्रजातियों की संख्या अभी कम है। वहीं सुर्खाब की संख्या में इजाफा होने पर संख्या 300 के करीब जा पहुंची है। यहां बता दें कि आसन में हर साल बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं।

ये भी पढ़ें - एक नाम पर दो फायदा लेने वाले दिव्यांगों की रुकेगी पेंशन, जांच के लिए नई टीम का गठन 


सुरक्षा कड़ी की गई

यहां यह जानना जरूरी है कि अक्टूबर और अप्रैल के बीच आने वाले इन पक्षियों की प्रजातियां यहां की नमभूमि का आनंद लेने लगे हैं। आसन झील में पक्षियों के सुनहरे पंख लोगों को अपनी ओर खींचने लगे हैं। प्रवासी पक्षियों के आगमन को देखते हुए उनकी सुरक्षा व्यवस्था भी कड़ी कर दी गई है। चकराता वन प्रभाग के कर्मचारी लगातार रात में भी झील की गश्त कर रहे हैं। 

 

  

Todays Beets: