Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

टीईटी और डीएलएड कोर्स कर चुके शिक्षामित्र बनेंगे प्राथमिक शिक्षक, शासनादेश हुए जारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टीईटी और डीएलएड कोर्स कर चुके शिक्षामित्र बनेंगे प्राथमिक शिक्षक, शासनादेश हुए जारी

देहरादून। राज्य में टीईटी और डीएलएड कोर्स कर चुके शिक्षामित्रों के लिए खुशखबरी है।ऐसे करीब 1200 से अधिक शिक्षामित्रों के लिए प्राथमिक शिक्षक बनने का रास्ता साफ हो गया है। विद्यालयी शिक्षा सचिव डॉक्टर भूपिंदर कौर औलख ने इस संबंध में प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को आदेश जारी कर दिए हैं। बता दें कि सरकार ने टीईटी पास नहीं करने वाले शिक्षामित्रों को प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए पात्रता शर्तें पूरी करने के लिए 31 मार्च, 2019 तक मौका दिया है। 

करीब 1200 शिक्षामित्रों को फायदा

गौरतलब है कि राज्य में टीईटी पास एवं दो वर्षीय डीएलएड या बीटीसी प्रशिक्षित शिक्षामित्रों को प्राथमिक शिक्षकों के रूप में नियुक्ति पाने के लिए हाईकोर्ट की शरण में जान पड़ा था। हाईकोर्ट के निर्देश के बाद राज्य सरकार ने निःशुल्क एवं बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009 में संशोधन से संबंधित अधिसूचना के मुताबिक औपबंधिक सहायक अध्यापक के रूप में कार्यरत शिक्षा मित्रों को सहायक अध्यापक (प्राथमिक) के पद पर नियुक्ति के आदेश जारी किए हैं। सरकार के इस आदेश से करीब 1200 शिक्षा मित्रों को फायदा होगा। 

ये भी पढ़ें - डाॅक्टरों को पहाड़ चढ़ाने के लिए सरकार ने दिया अनोखा आॅफर, पीजी में 30 फीसदी वेटेज देने का लिया फैसला


शिक्षक संघ में खुशी

यहां बता दें कि सरकार ने बाकी के शिक्षामित्रों को भी इसी अधिनियम के मुताबिक पात्रता शर्तें पूरी करने का मौका दिया है। शिक्षा सचिव की ओर से जारी शासनादेश में 31 मार्च, 2015 से पहले नियुक्त हुए और वर्तमान में टीईटी उत्तीर्ण नहीं होने वाले शिक्षामित्रों को 31 मार्च, 2019 तक आरटीई संशोधित अधिनियम के मुताबिक प्राथमिक शिक्षक की पात्रता शर्ते पूरी करने की मोहलत दी है। इसके साथ ही शासन ने केंद्र सरकार की आरटीई के संशोधित एक्ट के अनुसार उत्तराखंड राजकीय प्रारंभिक शिक्षा (अध्यापक) सेवा नियमावली, 2012 में संशोधन का प्रस्ताव तत्काल मुहैया कराने के निर्देश प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को दिए हैं। सरकार द्वारा जारी आदेश पर प्राथमिक शिक्षक संघ ने खुशी जाहिर की है। 

Todays Beets: